Connect with us

विशेष

नामी कंपनी के केक डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को ब्लैकमेल कर किया रेप, ऐसे बनाता था शिकार

Published

on

Advertisement

नामी कंपनी के केक डिलीवरी बॉय ने 66 महिलाओं को ब्लैकमेल कर किया रेप, ऐसे बनाता था शिकार

 

पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में नामी कंपनी के एक केक डिलीवरी बॉय ने ऐसा कारनामा कर डाला, जिसे सुनकर सभी के होश उड़ गए. अब आलम ये है कि उस डिलीवरी बॉय को लोग सीरियल बलात्कारी कहने लगे हैं. उसका अपराध इतना गंभीर है कि महिलाएं कड़ी से कड़ी सजा की मांग करने लगीं. उसने जिस तरह से वारदातों को अंजाम दिया उसे सुनकर लोग सकते में आ गए

Advertisement

आरोपी ने बताया कि कैसे फंसाता था अपना शिकार

यही नहीं, आरोपी ने महिलाओं के साथ ब्लैकमेलिंग और बलात्कार जैसी वारदातों को जिस तरह से अंजाम दिया उसे जानकर खुद पुलिस भी हैरान रह गई. दरअसल, डिलीवरी बॉय नामी कंपनी के उत्पादों के बारे में फीडबैक लेने के नाम पर महिलाओं को वीडियो कॉल करता था

Advertisement

फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल करता था आरोपी.

आरोपी ने बताया कि फीडबैक के नाम पर वीडियो कॉल करने के दौरान महिलाओं के कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें और वीडियो बनाने के बाद वह उन महिलाओं को ब्लैकमेल करता था. ब्लैकमेल करने के बाद वह उन महिलाओं को अपने साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए विवश करता था.

Advertisement

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा.

पुलिस के मुताबिक, हुगली के क्योटा के त्रिकोण पार्क के रहने वाले युवक विशाल वर्मा पर 66 महिलाओं को ब्लैकमेल करके बलात्कार करने का आरोप है. चंदननगर कमिश्नरेट के अंतर्गत चुचुड़ा थाने की पुलिस ने विशाल वर्मा और उसके एक अन्य साथी सुमन मंडल को गिरफ्तार करके जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया है.

आरोपी की मां ने अपने बेटे के अपराध को स्वीकार कर लिया है.

यहां तक कि इस मामले में अभियुक्त विशाल वर्मा की खुद की मां ने अपने बेटे के अपराध को स्वीकार कर लिया है साथ ही इस कुकृत्य में शामिल होने के आरोप को स्वीकार कर किया है.

यहां तक कि चुचुड़ा थाने की पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार अभियुक्तों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए आईपीसी की धारा  376, 506, 509, 384, 34, 354B के अंतर्गत केस दर्ज करके जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया है.

 

 

Source : IBN 24

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *