Connect with us

विशेष

“Pollution पर बैठकर मौसम बदलने का इंतजार नहीं कर सकते” भड़का SC

Published

on

Pollution haryana
Advertisement

Delhi-NCR Pollution Hearing in SC: प्रदूषण के हालातों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई. इस दौरान केंद्र ने कहा कि 21 तारीख से मौसम बदल जाएगा तो प्रदूषण में भी कमी आ जाएगी. इस पर कोर्ट ने भड़कते हुए कहा कि हम हाथ पर हाथ धरकर बैठकर मौसम बदलने का इंतजार नहीं कर सकते. कोर्ट ने ये भी पूछा कि सरकार को प्लान बताना चाहिए कि वो प्रदूषण को रोकने के लिए क्या कदम उठा रही है.
Pollution control body rolls out action plan to improve air quality in Delhi-NCR

सुनवाई के दौरान केंद्र की ओर से पेश हुए एसजी तुषार मेहता (Tushar Mehta) ने कहा कि मौसम विभाग का कहना है कि 21 नवंबर के बाद मौसम बदलते ही स्थिति में सुधार आने की संभावना है. अभी कई पाबंदियां लगाई गई हैं. क्या कोर्ट कोई सख्ती दिखाने से पहले 21 तारीख तक इंतजार कर सकता है. इस पर भड़कते हुए कोर्ट ने कहा, प्रदूषण पर हम मौसम बदलने का इंतजार नहीं कर सकते.

Advertisement

वहीं, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ (Justice DY Chandrachud) ने कहा कि मौसम सुधरेगा तो प्रदूषण की स्थिति में भी सुधार होगा, क्या आप इसी का इंतजार कर रहे हैं. इसके बाद सीजेआई (NV Ramana) ने कहा कि वो 21 तारीख के बाद कम्प्लीट शटडाउन पर विचार करेंगे. इस मामले में अब अगली सुनवाई 24 नवंबर को होगी.

वर्क फ्रॉम होम मुमकिन नहींः केंद्र 

Advertisement

सुनवाई के दौरान जब चीफ जस्टिस एनवी रमणा (NV Ramana) ने केंद्र सरकार के दफ्तरों के बारे में सवाल किया तो केंद्र की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (SG Tushar Mehta) ने हलफनामा पेश करते हुए बताया कि अगर हम सबको वर्क फ्रॉम होम मोड में भेज भी देते हैं तो उसका कोई असर नहीं होगा और सड़कों पर कुछ गाड़ियां ही कम होंगी.

इसके बाद कोर्ट ने कहा कि केंद्र को भी कुछ योगदान देना चाहिए. आपको 100% स्टाफ को वर्क फ्रॉम होम में भेजने की जरूरत नहीं है. कोविड के समय भी आपने पाबंदियां लगाई थीं और संख्या कम की थी. अपनी दलील रखते हुए एसजी मेहता ने कहा कि दिल्ली जैसे छोटे राज्यों में वर्क फ्रॉम होम हो सकता है लेकिन केंद्र सरकार के ऑफिसेस को बंद नहीं कर सकते क्योंकि इससे देश पर असर पड़ेगा.

Advertisement

Gurugram:India's millennium city is choking

कोर्ट ने ये भी कहा कि केंद्र के कर्मचारियों के 1000 में 100 दफ्तर एक ही जगह है. ऑफिस का समय भी तय है. फिर क्यों आपके कर्मचारी या अधिकारी एक ही बस या गाड़ी से ऑफिस नहीं आ सकते? इस पर एसजी ने कहा कि सरकार ने अपने कर्मचारियों को कार-पूलिंग करने का सुझाव दिया है.
Haryana Government shuts schools till November 17, due to bad Air Quality Index - Education Today News
ब्यूरोक्रेसी को भी कोर्ट की फटकार

चीफ जस्टिस एनवी रमणा ने ब्यूरोक्रेसी को भी फटकार लगाई. उन्होंने कहा कि पिछले 30 साल से एक जज के तौर पर मैंने देखा है कि ब्यूरोक्रेसी कुछ नहीं करना चाहती. वो कोई फैसला नहीं लेना चाहती. वो चाहती है कि हर फैसला और सुझाव कोर्ट ही दे. वो चाहती है कि हम उन्हें बताएं कि लड़ना कैसे है. उन्होंने आगे कहा कि कल मीटिंग में कोई फैसला क्यों नहीं लिया गया? हमारा 2 घंटे का समय बर्बाद कर दिया.

इसके बाद एसजी मेहता ने कहा कि एक राजा था, उसने फैसला लिया कि उसके राज्य में कोई भी भूखा नहीं सोएगा. तो उसके राज्य में काम करने वाले अधिकारी किसी को सोने ही नहीं देते थे. इस पर सीजेआई ने कहा कि कम से कम उसने ये तो सोचा कि कोई भूखा था या नहीं. लेकिन यहां तो ये हमारे आदेशों पर अपने हस्ताक्षर कर देते हैं.

प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त कदम उठाने को कहा है. (फाइल फोटो-PTI)

दिल्ली ने कहा- पराली जलाना बड़ा कारण

दिल्ली सरकार की ओर से पेश हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि सब जानते हैं कि 2 महीनों में पराली जलाने की घटनाएं चरम पर हैं. उन्होंने कहा कि पराली जलाना प्रदूषण का कारण है. इस पर सीजेआई रमणा ने कहा कि हम किसानों को सजा देना नहीं चाहते. हम चाहते हैं कि सरकार उनसे पराली न जलाने की अपील करे.

सीजेआई रमणा ने कहा कि यूपी, पंजाब और हरियाणा के सिर्फ कुछ ही गांवों में पराली जलती है. हम उस पर बात नहीं करेंगे. दिल्ली सरकार बताए कि उसने क्या किया है? इस पर सिंघवी ने बताया कि कल जो CAQM ने निर्देश दिए हैं, उसमें से 90% कदम दिल्ली सरकार पहले ही उठा चुकी है.

सिंघवी ने बताया कि नगर निगमों को सड़कें साफ करने के लिए 15 मशीनों की जरूरत है, हमने उसकी खरीद की मंजूरी दे दी है. इस पर कोर्ट ने कहा कि आप म्यूनिसिपैलिटी पर डाल रहे हैं. तब सिंघवी ने दलील देते हुए कहा कि क्योंकि साफ-सफाई का काम MCD का है.

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *