Connect with us

पानीपत

हरीश के समर्थन में जाम लगाने वालों पर नौ धाराओं में केस

Published

on

Advertisement

हरीश के समर्थन में जाम लगाने वालों पर नौ धाराओं में केस

हरीश शर्मा के समर्थन में धरने और रोड जाम करने वाले लोगों पर नौ धाराओं में केस दर्ज हुआ है। एसडीएम की गाड़ी व एंबुलेंस के शीशे तोड़ने और रोड जाम करने का मामला है। अज्ञात लोगों के खिलाफ थाना शहर में मामला दर्ज किया गया है। शिकायत एसडीएम विवेक चौधरी की गाड़ी के चालक शाहपुर गांव के वीरेंद्र ने दी है। इससे पहले हरीश शर्मा, उनकी बेटी अंजली शर्मा सहित दस लोगों पर पटाखे बेचने के विवाद में 11 धाराओं में केस दर्ज हुआ था।

Advertisement

 

 

Advertisement

उन्होंने पुलिस को बताया है कि रविवार शाम करीब पांच बजे पूर्व पार्षद के शव को एंबुलेंस से तहसील कैंप के कट पर लाया गया। वहीं पर शव रखकर महिला व पुरुषों ने जाम लगा दिया। इसके बाद पीवीआर के पास भी फ्लाईओवर पर तीन घंटे तक जाम लगा दिया। अधिकारियों ने लोगों को समझाया। लोग नहीं माने और उसकी गाड़ी व एंबुलेंस पर पथराव किया। इससे उसकी गाड़ी का पिछली लाइट और एंबुलेंस का शीशा टूट गया। इसके बाद भीड़ बेकाबू हो गई और जाम में फंसी गाड़ियों में तोड़फोड़ करने लगे। उग्र लोगों ने पुलिस पर पथराव किया। कई पुलिसकर्मी चोटिल हुए। आरटीए व ड्यूटी मजिस्ट्रेट अमरेंद्र सिंह ने बल प्रयोग के आदेश दिए। पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज कर लोगों को तीतर-बीतर किया और जाम को खुलवाया। इसकी वीडियोग्राफी भी कराई गई

नौ धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया

Advertisement

डीएसपी सिटी वीरेंद्र सैनी ने बताया कि पब्लिक प्रापर्टी को नुकसान पहुंचाने, नेशनल हाईवे जाम करने, मारपीट सहित नौ धाराओं के तहत काफी अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आरोपितों की पहचान कर कार्रवाई की जाएगी। एसआइटी ने बताया था 857 नंबर एफआइआर दर्ज हुई, इसी संख्या में हाईवे जाम का मामला दर्ज हुआ एसआइटी में शामिल रोहतक के डीएसपी गोरखपाल राणा ने रविवार शाम को पार्षद अंजली शर्मा व उनके स्वजनों को बताया था कि थाना शहर में एफआइआर संख्या 857 में पुलिस के उच्च अधिकारी, एसआइ बलजीत, इएसआइ महाबीर और यू ट्यूब चैनल के दो पत्रकारों के खिलाफ धारा 306, 120बी और 109 के तहत मामला दर्ज किया गया है। अब इसी संख्या में अज्ञात लोगों के खिलाफ हाईवे जाम लगाने का मामला दर्ज किया गया है। थाना माडल टाउन में दर्ज शिकायत में खाने में एसपी लिखा है, नाम नहीं लिखा है। इसमें धारा 120बी और 109 भी हटा दी गई है।

ये पुलिसकर्मी हुए घायल लोगों द्वारा पथराव होने से एसपी के रीडर दिलबाग सिंह, बस अड्डा चौकी प्रभारी नरेश कुमार, एएसआइ गुलशन, माडल टाउन थाने के जगपाल, पुलिस लाइन की सुनीता और नरेश कुमार घायल हो गए।

 

हुड्डा साहब, मुझे तीन पुलिसकर्मियों ने पीटा

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा शोक जताने के लिए हरीश शर्मा के घर पहुंचे। इसी दौरान तहसील कैंप के दुकानदार शेर सिंह ने बताया कि तीन पुलिसकर्मियों ने डंडे मारकर हाथ तोड़ दिया है। वे कहते रहे कि मारपीट क्यों कर रहे हो। उनकी सुनवाई नहीं की। हुड्डा ने कहा कि गलत हुआ है।

 

Source: Jagran

Advertisement