Connect with us

पानीपत

गंदगी के ढेर और प्लान में खामियां देख अधिकारियों पर ईपीसीए चेयरमैन नाराज, बोले-मोटा वेतन ले रहे हो,पर काम नहीं कर रहे, पानी का रीयूज की व्यवस्था क्यों नहीं हुई

Published

on

Spread the love

गंदगी के ढेर और प्लान में खामियां देख अधिकारियों पर ईपीसीए चेयरमैन नाराज, बोले-मोटा वेतन ले रहे हो,पर काम नहीं कर रहे, पानी का रीयूज की व्यवस्था क्यों नहीं हुई

पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम एवं नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) के अध्यक्ष भूरे लाल के निरीक्षण में सफाई व्यवस्था की पोल खुल गई। सड़क पर खुले में गंदगी, अवैध डंपिग ग्राउंड, खुले में पड़ी राख देख नगर निगम, एचएसआईआईडीसी एचएसवीपी के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि जब मोटा वेतन ले रहे हो तो काम ठीक से क्यों नहीं हो रहा। उन्होंने राख डालने पर इंडस्ट्री पर जुर्माना लगाया।

शनिवार काे वह गाजियाबाद, बुलंदशहर, मेरठ होते हुए दोपहर करीब एक बजे पानीपत आए और सबसे पहले निंबरी में बने कूड़े के डंपिंग पॉइंट पर पहुंचे। इसके बाद सेक्टर-25, सेक्टर-29 व अन्य क्षेत्रों का निरीक्षण किया। उन्हें कई स्थानों पर गंदगी और खुले में राखी पड़ी थी। इसपर वह नाराज हो गए और अधिकारियों से मौके पर जवाब तलब किया। कहा कि सेक्टर-25 से बने अवैध डंपिंग पॉइंट हटाने व सीटीपी का ट्रीट वाटर इंडस्ट्री में दोबारा प्रयोग करने पर ध्यान क्यों नहीं दिया जा रहा है।

यह दिए निर्देश

  • निंबरी डंपिंग पॉइंट: कूड़े को सेग्रिगेट करने और प्लास्टिक वेस्ट मुरथल एनर्जी प्लांट में भेजने का काम भी जल्द शुरू करने के निर्देश दिए।
  • सेक्टर-25 मित्तल मेगा मॉल ग्राउंड: यहां पर खाली मैदान में सड़क व भवनों के वेस्ट कंकरीट,ईंट पत्थर देखकर नाराज, जल्द हटाने के निर्देश दिए।
  • सेक्टर-25 डंपिंग पॉइंट: पॉश सेक्टर में आबादी के बीचो-बीच कूड़ा देखकर नगर निगम अधिकारियों को फटकार लगाई। बोले कि िजतनी जल्दी हो सके यहां से इसे हटवाया जाए। उन्होंने सख्त निर्देश दिए कि कुछ भी करें, लेकिन आबादी के बीच कूड़े के ढेर नहीं रहने चाहिए।
  • शहर की सभी इंडस्ट्री के बाहर बोर्ड लगाया जाए: इस साइन बोर्ड में रेड, ऑरेंज, ग्रीन और व्हॉइट का नियम पालन होना चाहिए। इसके बाद ही पता चलेगा कि इंडस्ट्री कौन सी कैटेगरी में शामिल हैं।

ये धूआं नहीं दिखता, कॉमन बॉयलर बनाओ

सेक्टर-29 में काला धुआं फेंक रहीं चिमनियां देख एचएसआईआईडीसी व एचएसवीपी अधिकारियों को कहा कि ये आपको क्यों नहीं दिखती। सभी इंडस्ट्री के लिए कॉमन बाॅयलर जल्द बनाने के साथ पीएनजी कनेक्शन चालू कराएं।

ट्रीटेड वाटर ड्रेन में डालना कहां की समझदारी, इसको दोबारा प्रयोग के लिए पाइपलाइन डलवाएं

ईपीसीएस चेयरमैन एचएसवीपी व एचएसआईआईडीसी अधिकारियों से जवाब मांगा कि खर्चा करके सीटीपी में पानी ट्रीट करने के बाद ड्रेन में क्यों डाला जा रहा है। इसे पाइप लाइन डालकर दोबारा इंडस्ट्री में री-यूज के लिए क्यों नहीं दिया जा रहा। इससे भू-जल का दोहन बचेगा। उन्होंने निर्देश दिए गए कि इसके लिए सेक्टर-29 पार्ट वन व टू में पाइप लाइन डलवाई जाएं। इसका एस्टीमेट बनाकर हेड ऑफिस भेजें। सेक्टर-29 में लगाए गए 21-21 एमएलडी के दोनों सीटीपी का पानी अब प्रयोग किया जाए।

ट्रीटेड वाटर के प्रयोग व कॉमन बाॅयलर जल्द

ईपीसीए चेयरमैन ने कॉमन बाॅयलर व ट्रीटमेंट वाॅटर का प्रयोग पर जल्द शुरू करने के निर्देश मिले हैं। दोनों प्रोजेक्ट पर जल्द काम शुरू होंगे। -कमलजीत सिंह, आरओ, एचएसपीसीवी

मैदान से कंकरीट और डंपिंग पॉइंट जल्द हटेगा

सेक्टर-25 में मित्तल मेगा मॉल के पास ग्राउंड में पड़ा रॉ मेटेरियल जल्द री-यूज करने का काम करेंगे। डंपिंग पॉइंट शिफ्ट करने को कंपनी ने कुछ मोहलत मांगी है। -सुशील कुमार, कमिश्नर, नगर निगम