Connect with us

विशेष

अव्यवस्था: मां के लिए डॉक्टर को ही नहीं मिला बेड, कहा- नेता तो एक फोन पर भर्ती हो जाते हैं

Published

on

Advertisement

अव्यवस्था: मां के लिए डॉक्टर को ही नहीं मिला बेड, कहा- नेता तो एक फोन पर भर्ती हो जाते हैं

 

दिल्ली के एक प्रसिद्ध सरकारी अस्पताल के एक डॉक्टर की मां 11 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित हो गई थीं। लेकिन उन्हें भर्ती कराने के लिए डॉक्टर को अपने ही अस्पताल में बेड नहीं मिला। डॉक्टर ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि मां का ऑक्सीजन स्तर लगातार घटता जा रहा था। उन्हें भर्ती कराने के लिए मैं दोपहर 12.30 बजे से चार बजे तक दौड़भाग करता रहा, लेकिन बेड नहीं मिल पाया।

Advertisement

सांकेतिक तस्वीर

डॉक्टर ने कहा कि मां की स्थिति बिगड़ती जा रही थी। एक साथी ने फोन पर सलाह दी कि मां को निजी अस्पताल में भर्ती करवाओ, तब मैंने उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। डॉक्टर ने आरोप लगाया कि जिस अस्पताल में मैं काम करता हूं वहां सांसद से लेकर विधायकों के साथ उनके रिश्तेदारों के लिए भी बेड की व्यवस्था तुरंत हो जाती है और मैं वहीं काम करता हूं, लेकिन मुझे अपनी मां के लिए बेड नहीं मिल पाया।

Advertisement

इस वीआईपी कल्चर से परेशान डॉक्टर ने कहा कि माननीयों के कई ऐसे भी रिश्तेदार और करीबी अस्पताल में भर्ती हुए हैं जिन्हें घर में ही आइसोलेट रहना चाहिए था, लेकिन फिर भी बेड मिल गया। उन्होंने कहा कि बेड आरक्षित करने का कोई नियम नहीं है। लेकिन हर अस्पताल में यह नियम चलता है। हालात ऐसे हो गए हैं कि अगर आप किसी पहुंच वाले व्यक्ति को नहीं जानते हैं तो आपके बचने की संभावना कम ही है।

Private Hospital Deliver Unnecessary Caesarean For The Sake Of Money -  पैसों की खातिर गैरजरूरी सीजेरियन प्रसव करा रहे निजी अस्पताल : अध्ययन - Amar  Ujala Hindi News Live

Advertisement

वीआईपी कल्चर पर स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र

वहीं, महामारी के बीच अस्पतालों में सांसदों और विधायकों को अस्पताल में मिल रहे वीआईपी इलाज को लेकर फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (फोरडा) ने भी नाराजगी जताई है। फोरडा ने इसे लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को एक पत्र लिखकर इस पर रोक लगाने की मांग की है। पत्र में लिखा है कि नेताओं की दखलअंदाजी से सेवाएं प्रभावित होती हैं और जरूरतमंद मरीज वंचित रह सकते हैं।

ncr Free dialysis facility in private hospitals of Delhi

फोरडा ने मांग की कि जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को निर्देश दिया जाए कि वह अपने इलाज के लिए उन्हीं संस्थानों में जाएं जो उन्हें विशेष तौर पर आवंटित किए गए हैं। सेवाएं बेहतर करने के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करें और पर्याप्त वर्कफोर्स की व्यवस्था करें। स्वास्थ्यकर्मियों और पैरामेडिकल कर्मियों के इलाज के लिए भी एक विशेष स्थान निर्धारित किया जाए। जनप्रतिनिधियों की सिफारिशों पर रोक लगाई जाए।

Source: Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *