Connect with us

विशेष

ज्यादा लोगों को बीमार करने वाला है कोरोना का नया स्ट्रेन: स्वास्थ्य मंत्रालय

Published

on

Advertisement

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने मंगलवार को कहा कि ब्रिटेन (Britain) में फैल रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए प्रकार से बीमारी की गंभीरता पर असर नहीं पड़ रहा है और न ही इससे मृत्यु दर बढ़ रही है. मंत्रालय ने कहा कि इसे लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है बल्कि इसके लिए कड़ी निगरानी रखने की जरूरत है. स्वास्थ्य मंत्रालय की साप्ताहिक प्रेस वार्ता में नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि ब्रिटेन में दिख रहे कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन जैसे मामले भारत (India) में अब तक नहीं मिले हैं.

पॉल ने बताया कि वायरस का ये नया प्रकार लोगों को तेजी से संक्रमित करने वाला है. उन्होंने कहा कि इससे केस की गंभीरता और मृत्यु की आशंका पर कोई असर नहीं पड़ता है. उनके मुताबिक ये लोगों को ज्यादा बीमार नहीं करेगा लेकिन ये ज्यादा लोगों को बीमार कर सकता है. ब्रिटेन में वायरस के नए रूप पर डॉ. वीके पॉ​ल ने कहा कि इस म्यूटेशन से वायरस के एक से दूसरे व्यक्ति में जाने की ट्रांसमिसिबिलिटी बढ़ गई है, ऐसा भी कहा जाता है कि ट्रांसमिसिबिलिटी 70% बढ़ गई है.

Advertisement

हमारी स्थिति दूसरे देशों से बेहतर

पॉल ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर बहुत सारे देशों में परेशानी बढ़ रही है. यूरोप में मामलों में बढ़ोतरी हुई है और बहुत सारे देशों ने अपने यहां लॉकडाउन लगाया है. इस तरह से हम अपने आपको बहुत अच्छी स्थिति में पाते हैं.

Advertisement

Health News Roundup: Mexico reports 4,119 new coronavirus cases; Global coronavirus cases surpass the 40 million milestones and more | Health

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव ने देश में कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति पर प्रकाश डालते हुए बताया कि ऐसा लगभग साढ़े पांच महीने बाद हुआ है कि भारत में तीन लाख से कम एक्टिव मामले हैं. वर्तमान में भारत में कुल मामलों के सिर्फ 3 प्रतिशत एक्टिव मामले हैं.

Advertisement

राजेश भूषण ने कहा कि पिछले सात हफ्तों में रोजाना के नए मामलों में लगातार गिरावट देखने को मिली है. उन्होंने कहा कि भारत में रिकवरी रेट 95 प्रतिशत से ज्यादा है. स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि पिछले 24 घंटों में आए कुल मामलों में से 57 फीसदी मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और केरल से सामने आए हैं. 61 प्रतिशत मौतें यूपी, छत्तीसगढ़, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में हुई हैं.

source- News18

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *