Connect with us

विशेष

नोएडा के 7 मरीजों में मिला कोरोना का यूके स्ट्रेन, बढ़ी बेचैनी, पर अधिकारी छिपा रहे केस

Published

on

Advertisement

नोएडा के 7 मरीजों में मिला कोरोना का यूके स्ट्रेन, बढ़ी बेचैनी, पर अधिकारी छिपा रहे केस

 

 

Advertisement

कोरोना संक्रमित मरीजों में यूके स्ट्रेन की पुष्टि होने से गौतमबुद्ध नगर के आसपास जिलों में बढ़ा खतरा बढ़ गया है। सेक्टर 30 चाइल्ड पीजीआई की लैब में 18 मरीजों के सैंपल संदिग्ध पाए गए थे, जिन्हें जांच के लिए दिल्ली भेजा गया था। इसमें 7 मरीजों में यूके स्ट्रेन की पुष्टि हुई है।

हैरत वाली बात यह है कि अधिकारी इसका खुलासा नहीं कर रहे हैं, जबकि चाइल्ड पीजीआई की ओर से सरकार व इंफेक्शन कंट्रोल ऑफिसर को इसकी जानकारी भेज दी गई है। ऐसे में सवाल उठता है कि अगर यूके स्ट्रेन का संक्रमण फैलता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा?

Advertisement

UK Strain

बढ़ा सैंपलों का वर्कलोड
जानकारी के मुताबिक, सेक्टर 30 चाइल्ड पीजीआई में गौतमबुद्ध नगर, रामपुर, संभल, बुलंदशहर और बागपत से कोरोना जांच के लिए सैंपल आते थे। बीते दो दिन से सैंपल का वर्कलोड बढ़ जाने से महज गौतमबुद्ध नगर, रामपुर और संभल से कोरोना संदिग्ध के सैंपल आ रहे हैं।

Advertisement

18 सैंपल मिले थे संदिग्ध
चाइल्ड पीजीआई के एक डॉक्टर ने बताया कि कुछ दिन पहले 18 संदिग्ध सैंपल पाए गए। उनमें यूके स्ट्रेन होने की आशंका लगी। इसके बाद मरीजों के सैंपल जीनोम जांच के लिए दिल्ली के नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोंल (एनसीडीसी) भेज दिए गए। इसमें 7 मरीज में यूके स्ट्रेन की पुष्टि हुई है।

नए स्ट्रेन ने बिगाड़ी जिले की हालत
सेक्टर 39 कोविड अस्पताल की एमएस डॉ. रेनू अग्रवाल ने बताया कि यूके स्ट्रेन बेहद खतरनाक है। इसी के वजह से 50 प्रतिशत से ज्यादा मरीज के फेफड़े तेजी से खराब हो रहे हैं, जिससे मौत भी काफी हो रही है। यह काफी घातक स्ट्रेन है।

गौतमबुद्ध नगर के अलावा अन्य जिलों के सैंपल चाइल्ड पीजीआई में जांच के लिए आते हैं। इसमें 18 सैंपल की जांच दिल्ली भेजी गई थी, जिसमें 7 मरीज में यूके स्ट्रेन की पुष्टि हुई है। इसकी जानकारी सरकार व जिले के संबंधित अधिकारी को दे दी गई है।
डॉ. सुमि नंदवानी, एचओडी, माइक्रोबायोलॉजी विभाग

तेजी से फैलता है यूके स्ट्रेन
चाइल्ड पीजीआई की डॉ. सुमी के मुताबिक, कोविड-19 के जीनोम में थोड़ा सा बदलवा देखने को मिला था। इस नए स्ट्रेन की पुष्टि यूके में हुई थी। इसका ट्रांसमिशन कोविड 19 से कई गुना तेज है। यह एक साथ कई लोग को संक्रमित कर सकता है। वैज्ञानिकों में इसे B.1.1.7 या VUC-202012/01 नाम दिया है। बता दें कि नवंबर 2002 में सार्स वायरस का खुलासा हुआ। इसका SARS CoV नाम दिया गया था, जो बिल्ली से फैला था। उसके बाद नवंबर 2019 में सार्स वायरस के जीनोम में स्पाइक प्रोटीन पूरी तरफ बदल गया। जिससे यह नया वायरस कोविड 19 बना। डब्लूएचओ में इसे SARS CoV-2 यानी कोविड-19 नाम दिया गया

 

 

Source :  NBT

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *