Connect with us

Medical update

Lockdown में पिकनिक पर गया धोखाधड़ी का आरोपी वधावन, अनुमति पर राजनीति गर्म

Published

on

पूरे देश में Lockdown जारी है, ऐसे में DHFL के प्रमोटरों- कपिल और धीरज वधावन सहित 23 लोगों को महाबलेशवर जाने की अनुमति देने को लेकर महाराष्ट्र में सियासत शुरू हो गई है। भाजपा ने जहां इस मामले को लेकर गृह मंत्री अनिल देशमुख का इस्तीफा मांगा है। वहीं उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार ने यात्रा की इजाजत देने वाले प्रधान सचिव अमिताभ गुप्ता को तुरंत प्रभाव से आवश्यक छुट्टी पर भेज दिया है।

पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘क्या महाराष्ट्र में अमीरों और धनवानों के लिए कोई Lockdown नहीं है? कोई भी पुलिस की आधिकारिक अनुमति से महाबलेश्वर में छुट्टियां बिता सकता है।’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) ने वधावन परिवार पर सवाल उठाते हुए कहा, वधावन भाई 30,000 करोड़ के DHFL घोटाले के मुख्य आरोपी हैं। ED मामले की बहुत धीमी जांच कर रही है। ED ने उन्हें गिरफ्तार करने में काफी समय लगाया। इसके बाद तुरंत उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया। ऐसा लगता है जैसे कोई उन्हें सिस्टम के अंदर से मदद कर रहा हो। अब उन्हें पिकनिक पर जाने की इजाजत दी गई।

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने Lockdown जारी रहने के बावजूद DHFL के प्रमोटरों को यात्रा की अनुमति देने के मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की शुक्रवार को मांग की। उन्होंने कहा कि इस घटना के बाद गृह विभाग में प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता को अनिवार्य अवकाश पर भेजने की सरकार की कार्रवाई महज खानापूर्ति है।

उन्होंने जानना चाहा कि किसके निर्देशों पर वित्तीय धोखाधड़ी के आरोपी वधावन भाइयों के साथ VVIP सलूक किया गया। सोमैया ने वीडियो बयान में कहा, ‘गुप्ता को अवकाश पर भेजना और कुछ नहीं बल्कि दिखावा है। हमें अनिल देशमुख का इस्तीफा चाहिए।’

महाराष्ट्र के गृह विभाग में तैनात प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता ने वधावन परिवार के 23 लोगों को कथित तौर पर महाबलेश्वर की यात्रा करने की इजाजत दी थी। एक आधिकारिक लेटरहेड पर जारी पत्र में गुप्ता ने लिखा था कि ‘निम्नलिखित (व्यक्ति) को मैं अच्छी तरह से जानता हूं क्योंकि वे मेरे पारिवारिक मित्र हैं और परिवार में आई आपात स्थिति की वजह से वह खंडाला से महाबलेश्वर तक की यात्रा कर रहे हैं।’ पत्र में उन्होंने पांच वाहनों का विवरण दिया था जिससे ये 23 व्यक्ति यात्रा कर रहे थे।

वधावन परिवार के सदस्यों को महाबलेश्वर की स्थानीय पुलिस ने शहर आने के बाद गुरुवार को शैक्षणिक क्वारंटाइन (एकांतवास) में रखा है। उन्होंने Lockdown के नियमों का उल्लंघन किया है।

Lockdown के आदेशों का उल्लंघन करने पर महाबलेश्वर पुलिस स्टेशन में DHFL समूह के कपिल वधावन और 22 अन्य (उनके परिवार के सदस्यों और नौकरों) के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

Lockdown के बीच वधावन परिवार के सदस्यों को सातारा जिले के लोकप्रिय हिल स्टेशन, महाबलेश्वर की यात्रा करने की अनुमति दी गई। उन्होंने परिवार में आपात स्थिति का हवाला देकर बंद के नियमों से छूट देने वाला पत्र हासिल किया। परिवार तथा अन्य सदस्यों ने बुधवार शाम अपनी कार से खंडाला से महाबलेश्वर तक की यात्रा की।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *