Connect with us

विशेष

आईसीएमआर ने पहली बार माना- भारत में 3 लोगों को दूसरी बार कोरोना हुआ, 100 दिन बाद संक्रमित हुए तो लिस्ट से बाहर होंगे

Published

on

Advertisement

आईसीएमआर ने पहली बार माना- भारत में 3 लोगों को दूसरी बार कोरोना हुआ, 100 दिन बाद संक्रमित हुए तो लिस्ट से बाहर होंगे

 

आईसीएमआर ने भारत में कोविड-19 के दूसरी बार होने की पहली बार पुष्टि की है। उसने कहा है कि दोबारा संक्रमण होने के भारत में तीन और दूसरे देशों में कुल 24 मामले सामने आए हैं। आईसीएमआर भारत में कोरोनावायरस के रोकथाम की गाइडलाइन और रणनीति तय करने वाली सबसे बड़ी संस्था है।

Advertisement

 

हालांकि देश में कई अस्पताल और शोध संस्थान इस बात को पहले ही बता चुके हैं, जिनमें लोगों को कोरोना से ठीक हो जाने के कुछ ही दिन बाद दोबारा संक्रमण हो गया। कई रिसर्च में यह भी पाया जा चुका है कि कोरोना से ठीक हुए मरीजों के शरीर में एंटीबॉडीज कुछ ही हफ्तों में नष्ट हो गई।

Advertisement

30-year-old critically ill patient recovers in Pune: 'Delayed taking  treatment, but was determined to overcome the challenge' | Cities News,The  Indian Express

आईसीएमआर ने पहली बार इन संभावनाओं को गंभीरता से लिया है। भारत में दो मामले मुंबई और एक अहमदाबाद में सामने आए हैं। आईसीएमआर के प्रमुख बलराम भार्गव का कहना है कि इसे और समझने के लिए अध्ययन अभी चल रहा है।

Advertisement

 

भार्गव के मुताबिक दोबारा संक्रमण होने के मामले को पहचानने के लिए कितने दिनों का फासला होना चाहिए, यह अभी तक WHO ने भी तय नहीं किया है। आईसीएमआर अभी लगभग 100 दिनों को कट-ऑफ मान के चल रहा है। इसका मतलब है कि यदि कोविड-19 से ठीक हुए किसी व्यक्ति को 100 दिनों के बाद फिर से कोरोना हो जाता है तो उसे दोबारा संक्रमण का मामला नहीं माना जाएगा।

 

 

Indians say they needed clout to get Covid-19 ICU beds — Quartz India

 

दोबारा कोरोना होने का मतलब है एंटीबॉडीज खत्म हो गई

दोबारा कोरोना होने का मतलब है कि पहली बार संक्रमण से ठीक होने के बाद मरीज के शरीर में जो एंटीबॉडीज बनी थी वो नष्ट हो गई। लैंसेट मैगजीन ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका में एक व्यक्ति के दोबारा संक्रमित हो जाने का ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें दूसरी बार संक्रमित होने पर पहली बार से ज्यादा गंभीर लक्षण पाए गए।

 

पहली बार दोबारा संक्रमित होने का मामला हांगकांग में आया था

पहले एक्सपर्ट यह उम्मीद कर रहे थे कि दोबारा कोरोना यदि हो भी रहा है तो बीमारी के लक्षण पहली बार के मुकाबले हल्के होंगे, लेकिन लैंसेट की रिपोर्ट इस धारणा को भी चुनौती दे रही है। अगस्त में पहली बार हांगकांग में एक व्यक्ति के कोविड-19 से ठीक हो जाने के बाद दोबारा संक्रमित हो जाने के मामले की पुष्टि हुई थी।

 

With Another Record One-Day Spike, India Crosses 2 Lakh COVID-19 Cases

रिसर्च में मालूम चला कि 7 सप्ताह बाद कोई एंटीबॉडी नहीं मिली

अगस्त में ही मुंबई में हुए एक शोध में पता चला था कि शरीर में एंटीबॉडी बनने के बाद, वो संभवतः 50 दिनों तक ही रहती है। यह रिसर्च जेजे अस्पताल ने अपने 801 स्वास्थ्यकर्मियों पर सीरो सर्वे के जरिए किया था। इन कर्मचारियों से 28 को अप्रैल-मई में कोरोना हुआ था। 7 सप्ताह बाद जून में किए गए सीरो सर्वे में इनके शरीर में कोई एंटीबॉडी नहीं मिली

 

Source : Dainik Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *