Connect with us

विशेष

दिल्ली: बुराड़ी का निरंकारी ग्राउंड बनेगा किसानों का जंतर-मंतर, मिली एंट्री की इजाजत

Published

on

Advertisement

कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब से मार्च निकाल रहे किसानों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत मिल गई है. शुक्रवार को बवाल के बाद पुलिस ने किसानों को दिल्ली के बुराड़ी में मौजूद निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन करने की इजाजत दी गई है. हालांकि, किसान इस दौरान दिल्ली के किसी ओर इलाके में नहीं जा सकेंगे. साथ ही इस दौरान पुलिस किसानों के साथ ही रहेगी.

शुक्रवार को सिंधु बॉर्डर पर किसानों और पुलिस के बीच जमकर बवाल हुआ. किसानों ने पुलिस पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस ने भी वाटर कैनन, आंसू गैस के गोले का इस्तेमाल किया.

Advertisement

अभी पुलिस की ओर से किसानों के प्रतिनिधियों से बात की जा रही है और सभी को ग्राउंड तक ले जाने की तैयारी हो रही है. पुलिस की एक टीम ने किसान नेताओं के साथ ग्राउंड तक के रास्ते को कवर किया, ताकि किसान उस रूट को फॉलो कर सकें.

किसान लगातार दिल्ली में घुसने की मांग कर रहे थे और जंतर-मंतर या रामलीला मैदान जाने की अपील कर रहे थे. किसानों का कहना था कि उनके जत्थे में 5 लाख लोग हैं, ऐसे में वो बिना दिल्ली पहुंचे वापस नहीं जाएंगे. किसानों की अपील थी कि वो नियमों का पालन करने के लिए तैयार हैं. यानी अब निरंकारी ग्राउंड में भी मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए किसान प्रदर्शन कर सकेंगे.

Advertisement

जिद पर अड़े थे किसान, अस्थाई जेल की तैयारी में थी पुलिस
बता दें कि दिल्ली पुलिस की ओर से किसानों के लिए दिल्ली में अस्थाई जेल बनाने की तैयारी की जा रही थी. दिल्ली पुलिस ने राज्य सरकार ने नौ स्टेडियम में अस्थाई जेल बनाने की इजाजत मांगी थी. हालांकि, राज्य सरकार ने इसे ठुकरा दिया. दूसरी ओर किसानों की ओर से दिल्ली में प्रवेश की जिद की जा रही थी और किसी भी रास्ते से वो पीछे हटने को तैयार नहीं थे.

गौरतलब है कि कोरोना संकट के कारण दिल्ली में एक जगह बड़ी संख्या में एकत्रित होने पर रोक है, जिसका हवाला दिल्ली पुलिस दे रही थी. किसानों की ओर से लगातार उनकी मांग पूरी करने की अपील की जा रही है और कृषि कानून वापस लेने को कहा जा रहा है.

Advertisement

हालांकि, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि सरकार ने किसानों को तीन दिसंबर को चर्चा के लिए बुलाया है. केंद्रीय मंत्री ने विपक्ष पर किसानों को गुमराह करने का आरोप लगाया. पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर ने मांग की थी कि केंद्र को तुरंत ही किसानों से बात करनी चाहिए.

किसानों द्वारा बॉर्डर पर जारी प्रदर्शन के कारण दिल्ली-हरियाणा के रास्ते में जाम की स्थिति बनी हुई है. इसके अलावा मेट्रो के कई स्टेशनों को बंद किया गया है.

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *