Connect with us

पानीपत

डॉक्टर बिना ज़रूरत लिख रहें Remdisivir इंजेक्शन, ऐसे डॉक्टरों…

Published

on

Advertisement

डॉक्टर बिना ज़रूरत लिख रहें Remdisivir इंजेक्शन, ऐसे डॉक्टरों…

 

 

Advertisement

रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर जिले में मारामारी मची है। लोगों को उम्मीद है कि ये इंजेक्शन संक्रमित मरीजों का जीवन बचा लेगा। लेकिन सिविल सर्जन अंबाला बिना चिकित्सक के परामर्श इंजेक्शन का इस्तेमाल न करने की सलाह दे रहे हैं। अब ऐसे चिकित्सकों पर कार्रवाई की तैयारी है जो बिना जरूरत के मरीजों को रेमडेसिविर इंजेक्शन की सलाह दे रहे हैं।

ऐसा मानना है कि मरीज की स्थिति के आधार पर ही इंजेक्शन की डोज तय होती है। इसका कम या ज्यादा इस्तेमाल नुकसानदेह साबित हो सकता है। सरकारी अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमितों के लिए जरूरत के अनुसार सिविल सर्जन कार्यालय को रोजाना सुबह डिमांड जाती है। इसके अनुसार रेमडेसिविर इंजेक्शन संबंधित आइसोलेशन वार्ड के लिए आवंटित करके पहुंचा दी जाती है।

Advertisement

मरीज को जरूरत है तभी मंगवाएं रेमडेसिविर

कुछ निजी चिकित्सालयों के डॉक्टर से रेमडेसिविर इंजेक्शन पर्चे पर लिखे जा रहे हैं। यह देखते हुए सीएमओ ने आदेश जारी किया है कि मरीज को अगर जरूरत है तभी यह इंजेक्शन मंगवाया जाए। अगर बिना जरूरत के इंजेक्शन लगाने की सलाह दी गई तो सिविल सर्जन कार्यालय की टीम संबंधित डॉक्टर के खिलाफ कठोर कार्रवाई करेगी। ऐसे में रेमडेसिविर इंजेक्शन का केमिस्ट की दुकानों पर कमी हो गई है। जो इंजेक्शन पहले 32 सौ रुपए तक में मिल जाता था, वह अब खोजे नहीं मिल रहा है। रेमडेसिविर इंजेक्शन की डोज डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ मरीज की जांच देखकर करता है। इस बार वायरस का स्ट्रेन बदला है। ऐसे में इंजेक्शन बिना डॉक्टर के लिखे लेना नुकसानदायक हो सकता है।

Advertisement

रेमडेसिविर इंजेक्शन की मात्रा मरीज की स्थिति के अनुसार तय की जाती है। सभी मरीजों को दिया जाना जरूरी नहीं।

2158 लोग होम आइसोलेट, बाजार में ऑक्सीमीटर का टोटा

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में दवा और जरूरी उपकरणों का टोटा पड़ने लगा है। जरूरी सामान को दोगुने दामों में बेचा जा रहा है। स्थिति यह है कि बाजार में पल्स ऑक्सीमीटर की कमी पड़ने लगी है। जिले में शुक्रवार तक 2158 लोग होम आइसोलेट हैं। होम आइसोलेट वाले मरीजों के स्वजन बाजार केमिस्ट की दुकानों पर ऑक्सीमीटर खोजते नजर आ रहें हैं। कोविड संबंधी कई दवाओं और उपकरणों की किल्लत होने से मुनाफाखोरों की चांदी है। पल्स ऑक्सीमीटर पहले 350 रुपये में बिकता था जो अब अचानक से दो हजार रुपये तक बिक रहा है।

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *