Connect with us

पानीपत

किसानों के विरोध के चलते पानीपत में CM के ध्वजारोहण पर संशय, मास PT कैंसिल

Published

on

Advertisement

किसानों के विरोध के चलते पानीपत में CM के ध्वजारोहण पर संशय, मास PT कैंसिल

 

कृषि कानूनों को लेकर किसानों द्वारा सरकार के कार्यक्रमों के विरोध के चलते अब 26 जनवरी को CM मनोहर लाल के पानीपत में ध्वजारोहण पर संशय है। इसी संशय के कारण मास PT कैंसिल कर दी गई है। विभाग झांकियां निकालने में भी रूचि नहीं दिखा रहे। पानीपत में CM का कार्यक्रम रद होता है तो साधारण तरीके से ही ध्वजारोहण किया जाएगा।

Advertisement

जिला प्रशासन ने 26 जनवरी का कार्यक्रम जारी करते हुए बताया था कि गणतंत्र दिवस पर CM मनोहर लाल शिवाजी स्पोर्टस स्टेडियम में ध्वजारोहण करेंगे। CM के कार्यक्रम को देखते हुए मार्च पास्ट के लिए पुलिस बल की विशेष टुकड़ियां तैयार की जा रही थीं। स्कूली बच्चों से मास PT और सांस्कृतिक कार्यक्रमों की तैयारी थी।

26 जनवरी के कार्यक्रम को लेकर शिवाजी स्टेडियम में तैयारी में जुटे श्रमिक। - Dainik Bhaskar

Advertisement

मगर जब जिले के किसान नेताओं को गणतंत्र दिवस पर CM के कार्यक्रम की जानकारी हुई तो उन्होंने कार्यक्रम का विरोध करने की चेतावनी दे दी। भारतीय किसान यूनियन के जिला प्रधान कुलदीप बलाना ने कहा कि प्रदेशभर में सरकार के कार्यक्रमों का विरोध हो चुका है। कई जगह लाठियां भी बरसाई गई। अब सरकार पानीपत को अशांत करना चाहती है। उन्होंने कहा कि यदि CM ने पानीपत में ध्वजारोहण करने आये तो किसान खुलकर विरोध करेंगे।

किसानों की धमकी के बाद से ही CM के पानीपत कार्यक्रम पर संशय है। उधर, सांस्कृतिक कार्यक्रमों की इंचार्ज DPC कौशल्या आर्य ने बताया कि मास PT के लिए सैकड़ों की संख्या में बच्चों की जरूरत होती है। वर्तमान में कक्षा 8 तक की कक्षाएं नहीं लग रही हैं। ऐसे में बच्चों को जुटाना मुश्किल है। एक दिन के लिए बच्चे बुलाए गए थे, लेकिन संख्या कम रही। अब CM का कार्यक्रम भी निश्चित नहीं है। इसलिए मास PT को कैंसिल कर दिया गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में गायन और समूह डांस होगा।

Advertisement

बजट जारी कर दिया, अब झांकी किसे दिखाएंगे
इस गणतंत्र दिवस पर पानीपत में CM के आने के कारण प्रशासन ने सभी सरकारी विभागों को उनकी उन्नति दर्शाती झांकी निकालने के निर्देश दिए थे। सभी विभागों को बजट भी जारी कर दिया, लेकिन CM का कार्यक्रम अधर में लटकने के कारण अब विभाग भी झांकी निकालने में रूचि नहीं दिखा रहे हैं।

Advertisement