Connect with us

City

Karnal Dowery Case: आठ माह का रिश्‍ता, शादी के फेरों से पहले टूटा, बिन दुल्‍हन लौटे बरात

Published

on

Karnal Dowery Case: आठ माह का रिश्‍ता, शादी के फेरों से पहले टूटा, बिन दुल्‍हन लौटे बरात

करनाल शहर में सोमवार रात को आयोजित शादी समारोह दहेज की मांग को लेकर ऐसा उलझा कि दूल्हा-दुल्हन पक्ष आमने-सामने आ गए। दूल्हे व दुल्हन के सात फेरों के पवित्र बंधन में बंधने से ऐन पहले उपजा यह विवाद रात ही नहीं, मंगलवार दिन भर भी जारी रहा। मामला पुलिस तक पहुंचा और पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया।

मीडिया से लेकर पुलिस के समक्ष भी दूल्हा-दुल्हन पक्ष के लोग एक-दूसरे को दोषी ठहराने पर आमादा रहे तो वहीं पुलिस ने भी दुल्हन की ओर से मिली शिकायत के बाद दूल्हे के अलावा उसके बड़े भाई व पिता के खिलाफ भी केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। रात होते-होते विवाद में नए-नए मोड़ आते रहे। दुल्हन पक्ष ने दूल्हे व स्वजनों द्वारा फेरे की रस्म शुरू होने से ऐन पहले 20 लाख रुपये और फाच्र्यूनर गाड़ी की मांग किए जाने के आरोप लगाए तो दूल्हे पक्ष ने इन्हें बेबुनियाद करार दिया। बाद में दूल्हे पक्ष की ओर से आडियो वायरल की गई, जिसमें गाड़ी को चर्चा है।

करनाल शादी टूटने के बाद दुल्‍हन कोमल, दूल्‍हा नसीब।

दूल्हा-दुल्हन ही नहीं, परिवार भी शिक्षित

शादी समारोह को लेकर होटल में एकत्र हुए दोनों परिवार संपन्न व शिक्षित हैं। विजयनगर जींद वासी दूल्हा करीब तीन साल से शिलांग आइसीएआर में साइंटिस्ट है तो वहीं उनका बड़ा भाई प्रीतम सिंह बिजली निगम जींद में कार्यरत है। पिता करतार ङ्क्षसह स्वास्थ्य विभाग से स्टोर कीपर के तौर पर सेवानिवृत्त हुए थे। वहीं आरीकपुर खेड़ी जिला बागपत उत्तरप्रदेश वासी दुल्हन कोमल ला की पढ़ाई कर रही है। फिलहाल वह पंजाब यूनिवर्सिटी में पीएचडी कर रही है और रजिस्ट्रेशन के दौरान 13वें स्थान पर रही थी। वह हरियाणा सरकार के पंचकूला स्थित उच्च शिक्षा विभाग में लीगल एडवाइजर के तौर पर अस्थायी रूप से नौकरी भी कर रही है। पिता योगेंद्र ङ्क्षसह खेती करते हैं, लेकिन वे तीन विषयों में एम पास है।

यह आडियो वायरल

इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुए आडियो में दूल्हे नसीब सिंह से दुल्हन पक्ष की ओर से गाड़ी को लेकर चर्चा की जा रही है। इसमें नसीब सिंह की ओर से कहा जा रहा है कि अभी न उन्हें गाड़ी की जरूरत है और न हीं उन्हें चलानी आती है। जब जरूरत होगी, वह खुद ले लेगा। वहीं थाने में ही पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने कहा कि वे अपने हाथ में लोहे का कड़ा पहनते हैं और कभी सोने-चांदी का शौक नहीं रखा है। दुल्हन पक्ष की ओर से रात को शादी समारोह के चलते उन्हें दी गई सोने की चेन भी वापस लौटा दी थी, लेकिन इसे ही प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया गया।

आठ माह रहा रिश्ता, कभी चर्चा तक नहीं : करतार

दूल्हे के पिता करतार सिंह व भाई प्रीतम सिंह का कहना है कि आठ माह पहले रिश्ता तय हुआ था। सब कुछ ठीक चल रहा था। दुल्हन का भाई कोरोना संक्रमित हो गया था। उन्होंने ही उसका जींद में उपचार कराने व वहां रखे जाने में रिश्तेदार के नाते ही सहयोग किया था। कभी लेन-देन को लेकर कोई बातचीत नहीं की। शादी में केवल 50 लोग लेकर आए थे।

पता चला तो बेहोश हो गई थी बेटी : योगेंद्र

दुल्हन के पिता योगेंद्र सिंह ने थाने में ही पत्रकारों से चर्चा की। उन्होंने भावुक होते हुए बताया कि पूरा परिवार बेटी की शादी की खुशियों में झूम रहा था, लेकिन अचानक यही दिन बुरा साबित हो गया। दहेज लोभी परिवार ने ऐन मौके पर शादी से इन्कार कर दिया और बेटी दुल्हन के लिबास में बैठी रही। उन्हें पता चला तो वह बेहोश हो गई थी। किसी तरह उन्हें और खुद को संभाला। वे गन्ने की मुख्य फसल करते हैं लेकिन भुगतान में देरी के चलते बेटी की शादी के लिए भरसक प्रयास कर राशि जुटाई थी। उन्होंने चार घंटे तक बंद कमरे में दूल्हा पक्ष को मनाने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने।

आरोपितों पर हो कड़ी कार्रवाई : कोमल

पिता के साथ दुल्हन कोमल भी थाने में मीडिया के सामने आई। उसने कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि जिसके साथ जीवन भर रहना चाहती है, वही स्वजनों के साथ मिलकर इस स्तर पर उतर आएगा। दहेज के लालच में उनके पिता का अपमान किया गया। आरोपितों पर कड़ी कार्रवाई हो।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *