Connect with us

समाचार

जींद-गोहाना-सोनीपत रेल मार्ग पर अगले साल दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक इंजन की ट्रेन

Published

on

जींद-गोहाना-सोनीपत रेल मार्ग पर अगले साल दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक इंजन की ट्रेन

 

 

जींद-गोहाना-सोनीपत रेलमार्ग पर अगले साल इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें दौड़ेंगी। रेलवे विभाग इस मार्ग पर विद्युतीकरण का कार्य करवा रहा है, जिसका काम जून, 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। एजेंसी पहले चरण में गोहाना से जींद के बीच काम पूरा करेगी और उसके बाद गोहाना-सोनीपत के बीच लाइन पर विद्युतीकरण का काम होगा। विद्युतीकरण का काम पूरा होने के बाद ट्रेनों की गति बढ़ेगी, नई ट्रेनें चलने की संभावना भी बढ़ जाएगी और प्रदूषण कम होगा। इस प्रोजेक्ट पर करीब 30 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

जींद-गोहाना-सोनीपत रेल मार्ग पर अगले साल दौड़ेंगी इलेक्ट्रिक इंजन की ट्रेन

सोनीपत-गोहाना-जींद रेल मार्ग पर काम 2009 में शुरू हुआ था। भाजपा सरकार के कार्यकाल में 2016 में काम पूरा हुआ था। 27 जून, 2016 को इस रेल मार्ग पर ट्रेनों का परिचालन शुरू हुआ। शुरुआत में इस मार्ग पर एक ट्रेन चलाई गई थी। बाद में लोगों की मांग पर मार्ग पर दो और ट्रेनें बढ़ा दी गईं। सोनीपत-गोहाना-जींद के बीच लॉकडाउन से पहले तीन ट्रेनें चलती थी। रेलवे विभाग इस मार्ग का विद्युतीकरण करवा रहा है। एनरिच एसडब्ल्यूपीएल-जेवी एजेंसी को काम दिया गया है। एजेंसी ने फाउंडेशन तैयार होने के बाद करीब एक माह पहले पोल व अन्य उपकरण लगाने का काम शुरू करवाया था। एजेंसी द्वारा पहले चरण में गोहाना से जींद के बीच काम करवाया जा रहा है। फिलहाल जींद क्षेत्र में काम चल रहा है। अधिकारियों का कहना है कि गोहाना-जींद के बीच में करीब दो माह में काम पूरा करवा दिया जाएगा। दूसरे चरण में सोनीपत से गोहाना के बीच विद्युतीकरण का काम होगा। जून, 2021 तक इस मार्ग का विद्युतीकरण का काम पूरा होगा। इसके बाद इस मार्ग पर इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें दौड़ेंगी।

ये होगा फायदा

सोनीपत-गोहाना-जींद के बीच सीएनजी इंजन की ट्रेनें चलती हैं। सोनीपत से दिल्ली और पानीपत की तरफ जाने वाली ट्रेनों इलेक्ट्रिक इंजन से चलती हैं। जींद से भी दिल्ली या पंजाब की तरफ जाने वाली ट्रेनें इलेक्ट्रिक इंजन से चलती हैं। मार्ग का विद्युतीकरण होने के बाद यहां भी इलेक्ट्रिक इंजन की ट्रेनें चलेंगी। इससे यहां से लंबे रूटों की ट्रेनें चलने का विकल्प खुल जाएगा। इससे ट्रेनों की संख्या बढ़ सकती है। ट्रेनों की गति बढ़ेगी और रेलवे का खर्च कम होगा। सोनीपत-गोहाना-जींद रेल मार्ग करीब 81 किलोमीटर लंबा है। इस मार्ग पर विद्युतीकरण का कार्य जून, 2021 से पहले पूरा करने का लक्ष्य है। पहले चरण में गोहाना से जींद के बीच में और दूसरे चरण में गोहाना से सोनीपत के बीच में काम होगा