Connect with us

पानीपत

पानीपत- व्यापारी विनोद मित्तल के ख़िलाफ़ नक़ली घी बनाने का केस दर्ज, उद्यमी ने कहा ग़लत कार्यवाही

Published

on

Spread the love

पानीपत- व्यापारी विनोद मित्तल के ख़िलाफ़ नक़ली घी बनाने का केस दर्ज, उद्यमी ने कहा ग़लत कार्यवाही

 

दुर्गा ट्रेडिग कंपनी और दुर्गा फूड प्रोसेस में नकली देसी और वनस्पति घी तैयार करने का आरोप लगा है। चांदनी बाग थाने में दोनों कंपनियों के मालिक विनोद मित्तल के खिलाफ आइपीसी की धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। सीएम फ्लाइंग दस्ते ने शनिवार को शास्त्री नगर और खटीक बस्ती स्थित दोनों कंपनियों में छापामारी की थी। रिकॉर्ड जब्त करते हुए 11 सैंपल लिए गए थे।

करनाल के एसआइ राममेहर ने चांदनीबाग थाना में दी शिकायत में बताया कि विनोद कुमार मित्तल की जय दुर्गा ट्रेडिग कंपनी है। यहां नकली देसी घी तैयार होता है। दुर्गा प्रोसेस के नाम पास में ही दूसरी फर्म है। उसके गोदाम में नकली घी का स्टॉक रहता है। शनिवार को टीम के साथ छापामारी की गई थी। वहां विनोद कुमार मौजूद मिला। मौके पर पहुंचे जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा. श्यामलाल ने विभिन्न ब्रांड नाम से तैयार नकली देसी की छह और वनस्पति ऑयल के पांच सैंपल लिए थे।

कराधान उत्पाद कर निरीक्षक नरेंद्र कुंडू ने कंप्यूटर की हार्ड डिस्क से क्रय-विक्रय का डाटा पेन ड्राइव में लिया है। एसआइ की शिकायत पर पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर ली है। थाना प्रभारी अंकित कुमार ने एफआइआर की पुष्टि करते हुए बताया कि जांच की जा रही है।

दो साल पहले था कारपेट का काम

विनोद कुमार मित्तल का दो साल पहले तक कारपेट उत्पादन का बिजनेस था। यह बिजनेस ठीक से नहीं चला तो वर्ष 2018 में देसी घी का उत्पादन करने के लिए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन से लाइसेंस लिया था। वनस्पति ऑयल उत्पादन तीन माह पहले शुरू किया है।

मेरे पास देसी घी और वेजिटेबल ऑयल उत्पादन के दो लाइसेंस हैं। मौजूद स्टॉक के 11 सैंपल लिए गए थे। लैब रिपोर्ट आने से पहले नकली देसी बताकर आइपीसी की धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज करना उचित नहीं है। हम सभी मानकों का पालन करते हुए बिजनेस कर रहे हैं।

विनोद मित्तल, कंपनी डायरेक्टर

 

दोनों कंपनियों में करीब 17 हजार लीटर देसी घी व वनस्पति ऑयल का स्टॉक था। मौके पर दूध, दही, मक्खन का स्टॉक नहीं था। इन सामग्रियों के बिल भी नहीं थे। इससे स्पष्ट है कि नकली देसी घी तैयार हो रहा था।

राम मेहर, एसआइ-सीएम फ्लाइंग दस्ता करनाल।