Connect with us

पानीपत

परिजनाें ने सीएमओ से की शिकायत, 35 हजार में मिल रहा एक रेमडेसिविर का इंजेक्शन

Published

on

Advertisement

परिजनाें ने सीएमओ से की शिकायत, 35 हजार में मिल रहा एक रेमडेसिविर का इंजेक्शन

 

रेमडेसिविर की कालाबाजारी काे राेकने के लिए सिविल सर्जन डाॅ. संजीव ने तीन सीनियर डाॅक्टर और ड्रग कंट्राेलर की कमेटी बनाई। कमेटी काे बनाए एक सप्ताह हाे चुका है, लेकिन रेमडेसिविर इंजेक्शन काे कैसे डिस्ट्रीब्यूट हाेगा, कैसे लाेगाें काे मिले, ये सब करने में कमेटी असफल हाे रही है क्याेंकि लाेगाें काे इनसे रेमडेसिविर नहीं मिल रहे और बाहर से जुगाड़ से 35 से 40 हजार रुपए में एक इंजेक्शन मिल रहा है।

Advertisement

बाहर से जुगाड़ से 35 से 40 हजार रुपए में एक इंजेक्शन मिल रहा है।  - Dainik Bhaskar

इस कमेटी के पास पिछले तीन दिनाें में ही 40 से ज्यादा डिमांड पेंडिंग है, लेकिन किसी काे भी रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध नहीं करा पाए हैं। वहीं लाेगाें का आराेप है कि ड्रग कंट्राेलर ऑफिसर फाेन तक नहीं उठा रही है। सीएमओ काे प्रेम अस्पताल से आई सलारगंज के पास की रहने वाली शगुन ने बताया कि कालाबाजारी जाेराें पर है। मेरे पिता काे रेमडसिविर इंजेक्शन चाहिए थे, हमने 35-35 हजार में खरीदें हैं। ये सिर्फ मैनें नहीं और भी परिजनाें ने 35 से 40 हजार रुपए में इंजेक्शन खरीद रहे हैं। 7 गाेली 24 हजार रुपए की।

Advertisement

ड्रग कंट्राेलर ऑफिसर फाेन तक नहीं उठा रहे

परिजनाें ने सिविल सर्जन डाॅ. संजीव ग्राेवर काे बताया कि ड्रग कंट्राेलर काे पाॅजिटिव मरीज की डिटेल भेजी गई और आधार कार्ड भी। लेकिन काेई रिप्लाई नहीं मिलता। यहां तक की ड्रग कंट्राेलर फाेन तक नहीं उठाती है। अब जाए ताे जाए कहां। अस्पतालाें में कई लाखाें के रुपए बिल बन रहे हैं। इसपर काेई राेक नहीं है। सीएमओ ने बताया कि कमेटी बनाई गई है, उसकाे लिखित में शिकायत दीजिए कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement

Source : Bhaskar

Advertisement