Connect with us

विशेष

अब से सड़को पर नहीं चल सके गई 20 साल पुरानी निजी गाड़ियां, जानिए पूरी खबर

Published

on

green-tax-policy-in-
Advertisement

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट 2021-22 में पुराने वाहनों को सड़कों से हटाने के लिए ‘स्क्रैप पॉलिसी’ की घोषणा की. ‘क्लीन एयर’ को ध्यान में रखते हुए इस पॉलिसी के तहत 20 साल पुराने निजी वाहनों और 15 साल पुराने कमर्शियल वाहनों को ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर पर जांच के लिए जाना होगा. हालांकि इससे जुड़ी विस्तृत जानकारियां बाद में सामने आएंगी.

पुरानी सरकारी गाड़ियां हटेंगी जल्द

हाल में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सरकारी वाहनों के लिए 15 साल पुराने वाहनों को कबाड़ (स्क्रैप करने) में भेजने की नीति को मंजूर कर दिया. मंत्रालय के इस फैसले से केंद्र, राज्य सरकारों और पब्लिक सेक्टर की कंपनियों में इस्तेमाल होने वाले 15 साल पुराने वाहनों को हटाना होगा. हालांकि इस नीति का पालन अप्रैल 2022 से होना है.

Advertisement

बिहार में अब नहीं चलेगी पुरानी गाड़ियां, लागू होगा नया नियम ~ HappyNews

2016 से था इंतजार

केंद्र सरकार ने मई 2016 में पुराने वाहनों को सड़क से हटाने के लिए  Voluntary Vehicle Fleet Modernisation Programme का मसौदा रखा था. सरकार का अनुमान है कि इस नीति के सबके लिए आने से सड़कों से 15 साल पुराने करीब 2.8 करोड़ वाहन हटाने में मदद मिलेगी.

Advertisement

प्रदूषण से राहत

आईआईटी बॉम्बे के एक अध्ययन के मुताबिक कुल वायु प्रदूषण में लगभग 70 प्रतिशत हिस्सेदारी वाहनों से होने वाले प्रदूषण की है. ऐसे में पुराने वाहनों को कबाड़ में भेजने पर वायु प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी.

what is scrap policy how its affect you budget 2021 modi government announced dvup | Budget 2021: क्या है स्क्रैप पॉलिसी? कैसे पड़ेगा आप पर इसका असर

Advertisement

सस्ती होंगी गाड़ियां

सड़क परिवहन मंत्रालय का अनुमान है कि स्क्रैप पॉलिसी से रिसाइकल कच्चा माल उपलब्ध होगा. इससे वाहनों की लागत में 30 प्रतिशत तक की कमी आने की भी संभावना है. इसके अलावा बजट में स्टील पर उत्पाद शुल्क (कस्टम ड्यूटी) भी कम किया गया है. इससे वाहनों की कीमत में और कमी आने की भी संभावना है.

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *