Connect with us

चंडीगढ़

बड़ी ख़बर- एनसीआर और चंडीगढ़ व मोहाली के अस्पताल फ़ुल हुए, मंत्री-अफ़सर की सिफ़ारिशें भी विफल

Published

on

Advertisement

बड़ी ख़बर- एनसीआर और चंडीगढ़ व मोहाली के अस्पताल फ़ुल हुए, मंत्री-अफ़सर की सिफ़ारिशें भी विफल

 

Advertisement

हरियाणा में कोरोना के बढ़ते कहर के बीच एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र)और ट्राई सिटी (चंडीगढ़-पंचकूला और मोहाली) के नामचीन निजी अस्पतालों में दाखिला मिलना मुश्किल हो रहा है। कोरोना संक्रमित दाखिल होने के लिए जुगाड़ भी लगा रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से सिफारिश लगाने वालों की तादाद भी काफी ज्यादा है। विज के पास इस संबंध में रोजाना फोन आ रहे हैं।

How Doctors Are Treating Patients With Coronavirus Disease : Goats and Soda : NPR

सिफारिशों की सूची लंबी होते देख सरकार ने तीन जिलों में 100-100 बिस्तर के क्रिटिकल कोविड केयर सेंटर बनाने का फैसला लिया है। इनमें गंभीर रूप से संक्रमितों का इलाज किया जाएगा। हिसार के अग्रोहा मेडिकल कॉलेज, करनाल के कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज व रोहतक पीजीआई में यह केंद्र बनेंगे।
स्वास्थ्य मंत्री ने तीनों जिलों के कॉलेज प्रबंधन को ये केंद्र तत्काल स्थापित करने को कहा है ताकि गंभीर मरीजों का उपचार शुरू हो सके। गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि क्रिटिकल कोविड केयर सेंटर में ऑक्सीजन व वेंटिलेटर पर चल रहे मरीजों के अलावा अन्य गंभीर संक्रमितों को रखा जाएगा। सरकार कोरोना को हराने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।

Advertisement
कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नर्सिंग की अंतिम वर्ष की छात्राओं की सेवाओं की ली जाएगी मदद 
स्वास्थ्य विभाग नर्सिंग अंतिम वर्ष की छात्राओं की सेवाएं भी कोरोना से लड़ने में लेगा। अनिल विज ने विभाग को निर्देश दे दिए हैं। होम क्वारंटीन लोगों को चिकित्सकीय सेवाएं देने के लिए भी इनकी मदद ली जा सकती हैं। अस्पतालों में जहां जरूरत होगी, वहां भी इन्हें तैनात किया जाएगा।

Covid-19 response in Europe: How Europe underestimated the danger of the coronavirus pandemic | Society | EL PAÍS in English

Advertisement

बिना अनुमति रैली, जनसभा पर दर्ज होगा केस   
सरकार ने प्रदेश में सभी दलों के नेताओं की रैलियों व जनसभाओं पर रोक लगा दी है। डीसी की अनुमति के बिना कोई रैली, जनसभा नहीं होगी। अगर किसी भी दल का नेता बिना मंजूरी रैली करते हैं तो उनके खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मामला दर्ज करवाया जाएगा।

 

Advertisement