Connect with us

जींद

रात भर एसपी कार्यालय के बाहर धरना देती रही गैंगरेप पीड़िता, सुबह कार ने मारी टक्कर

Published

on

रात भर एसपी कार्यालय के बाहर धरना देती रही गैंगरेप पीड़िता, सुबह कार ने मारी टक्कर

 

अपने ससुराल वालों पर गैंगरेप आरोप लगाकर कार्रवाई के लिए एसपी ऑफिस के सामने दो दिन से धरना दे रहे युवती को शुक्रवार सुबह वकील की कार ने टक्कर मार दी। वकील पार्किंग की तरफ से अपनी गाड़ी लेकर एसपी कार्यालय की तरफ आया और पीड़िता को टक्कर मार दी। इससे घायल 30 मिनट तक तड़पती रही।

वहां मौजूद पुलिस और अन्य लोग उसे अस्पताल पहुंचाने के बजाय वीडियो बनाते रहे। किसी ने फोन कर एंबुलेंस को बुलाया, जिससे उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां इसे भर्ती कर लिया गया है। हादसे के बाद पुलिस ने वकील को रोक लिया है। एसपी का कहना है कि महिला जानबूझ कर गाड़ी के आगे आई। पीड़िता का कहना है कि वकील ने जानबूझ कर टक्कर नहीं मारी है। वह उसपर कोई कार्रवाई नहीं चाहती।

कोई टूट-फूट नहीं है : एमएस

सिविल अस्पताल के एमएस डॉ. गोपाल गोयल का कहना है कि पीड़िता को कमर, पेट व निचले हिस्से में दर्द है। उसका एक्स-रे किया गया है, लेकिन एक्स-रे में कोई टूट-फुट नहीं आई है। पेट में दर्द के कारणों का पता लगाने के लिए उसे दाखिल किया गया है। एक दिन उसे निगरानी में रखा जाएगा।

पीड़िता का आरोप : गैंगरेप में नहीं, सिर्फ दहेज प्रताड़ना में पुलिस कर रही कार्रवाई

इस मामले में पीड़िता ने 16 जून को पुलिस को शिकायत दी। कार्रवाई नहीं हुई तो आला अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत भेजी गई। इस पर 24 सितंबर को जींद पुलिस ने गैंगरेप, दहेज प्रताड़ना, जान से मारने की धमकी सहित कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। पीड़िता का आरोप है कि उसका मेडिकल भी नहीं कराया गया। जींद पुलिस ने गैंगरेप में नहीं केवल दहेज, मारपीट के मामले में कार्रवाई की है।

जींद पुलिस का जवाब : गैंगरेप मामले में दिल्ली पुलिस करेगी कार्रवाई

जींद पुलिस का कहना है कि महिला से गैंगरेप दिल्ली में हुआ है। इसलिए कार्रवाई दिल्ली पुलिस करेगी। इसके लिए दिल्ली पुलिस से पत्राचार किया गया है। पीड़िता ने दिल्ली के बवाना थाने में मामला दर्ज कराया है, लेकिन वहां गैंगरेप की शिकायत नहीं दी थी। 164 के बयान भी महिला के दिल्ली में हुए हैं। वहां भी गैंगरेप की बात नहीं कही। पीड़ित महिला व उसके परिजनों पर भी मामला दर्ज है।

महिला आयोग ने पुलिस से 3 दिन में मांगी रिपोर्ट

मीडिया में खबर आने के बाद महिला आयोग ने मामले को संज्ञान में लिया है। शुक्रवार को हरियाणा महिला आयोग की कार्यकारी अध्यक्ष प्रीति भारद्वाज ने पीड़िता से बात की। उन्होंने पीड़िता को बताया कि पुलिस से तीन दिन में रिपोर्ट मांगी गई है। शनिवार को आयोग की सदस्य सुमन बेदी पीड़िता से मिलेंगी। पीड़िता ने उनसे एसपी अंबाला से जांच करवाने की मांग की है, जिस पर उन्होंने बाद में फैसला करने की बात कही है। उधर शुक्रवार शाम को करनाल से मर्दानी फाउंडेशन से सदस्य सोनिया तंवर, सपना राणा, सरोज शर्मा, अमित तंवर पीड़िता से मिलने पहुंचे।

गृह मंत्री से न्याय की उम्मीद

पीड़िता का कहना है कि उसका जींद व दिल्ली की बवाना पुलिस से विश्वास उठ चुका है। वह रात भर एसपी कार्यालय के बाहर धरने पर बैठी रही। सुबह भी एसपी व अन्य अधिकारी सामने से गुजर गए, लेकिन किसी ने नहीं सुना। उसने मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, प्रधानमंत्री को शिकायत की है। गृह मंत्री अनिल विज से न्याय की उम्मीद है। उसकी हत्या की साजिश रची जा रही है। चार दिन पहले उसपर हमला हुआ था।

पीड़िता की शिकायत पर कार्रवाई की गई

पीड़िता ने जो शिकायत दी थी, उस पर कार्रवाई की गई है। गैंगरेप की घटना दिल्ली में हुई है। उसके लिए दिल्ली पुलिस को लिखा गया है। जिन आरोपियों की शिकायत पीड़िता ने दी थी, उनको गिरफ्तार कर लिया है। महिला को समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन वह नहीं मान रही। जींद पुलिस की तरफ से कोई ढिलाई नहीं दी जा रही। हादसे के बाद पुलिसकर्मियों ने वीडियो नहीं बनाई। पुलिसकर्मी घायल महिला को तुरंत हास्पिटल लेकर गए।-ओमप्रकाश नरवाल, एसपी, जींद।

 

Source : Bhaskar