Connect with us

City

अच्छी ख़बर- पानीपत में जल्द 7 मंज़िला ख़ास हेल्थ विंग बनेगा, जानिए

Published

on

Advertisement

अच्छी ख़बर- पानीपत में जल्द 7 मंज़िला ख़ास हेल्थ विंग बनेगा, जानिए

सिविल अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग का मलबा ठेकेदार ने हटा दिया है। भूमि समतल भी हो गई है। अब यहां 21 करोड़ रुपये की लागत से 100 बेड की एमसीएच (मैटरनल एंड चाइल्ड हेल्थ) विंग निर्माण होगा। पीडब्ल्यूडी बीएंडआर (भवन एवं सड़क) ने कुरुक्षेत्र की कंपनी को टेंडर दिया हुआ है।

दरअसल, फरवरी 2018 में बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सिविल अस्पताल में 100 बेड की एमसीएच विंग निर्माण को मंजूरी दी थी। अक्टूबर 2018 में विंग निर्माण के लिए बजट को सैद्धांतिक मंजूरी दी गई।

Advertisement

वर्ष 2021 की शुरुआत में स्वास्थ्य विभाग ने पीडब्ल्यूडी के खाते तक लगभग 13 करोड़ रुपये जमा करा दिए। विभाग ने इस बिल्डिंग में पहले कोरोना रोगियों के लिए आइसोलेशन वार्ड बना दिया था। बाद में कोरोना वैक्सीनेशन केंद्र बना दिया। उच्चाधिकारियों के आदेश पर दोनों को नई बिल्डिंग में शिफ्ट किया गया। पुरानी बिल्डिंग को गिराकर, मलबा उठाने का टेंडर जारी किया गया। ठेकेदार ने तय समय पर काम पूरा कर दिया |

मैटरनल एंड चाइल्‍ड हेल्‍थ विंग का निर्माण शुरू हो रहा।

Advertisement

पीडब्ल्यूडी के एसडीओ रामपाल जागलान ने बताया कि सात मंजिला एमसीएच विंग के निर्माण का ठेका कुरुक्षेत्र की कंपनी को दिया गया है। पंचकूला में बनी विंग की तर्ज पर ही इसका निर्माण होगा। उस कंपनी को पुरानी बिल्डिंग का मलबा हटने की सूचना दे दी गई है।

Advertisement

एक छत के नीचे जच्चा-बच्चा

एमसीएच विंग में प्रसव से पहले गर्भवती महिलाओं को रखने के लिए बेड होंगे। प्रसव संपन्न कराने के लिए 20 टेबल होंगी। प्रसव उपरांत 48 से 72 घंटे अस्पताल में भर्ती पहले के लिए जच्चा-बच्चा के लिए पर्याप्त बेड होंगे।महिला ओपीडी, शिशु रोग ओपीडी, स्पेशल न्यू बोर्न चाइल्ड केयर यूनिट (एसएनसीयू) बनेगी। एक आपरेशन थियेटर भी बन सकता है। सीधा अर्थ, जच्चा-बच्चा का चेकअप और इलाज एक छत के नीचे होगा। इसी के साथ अस्पताल 300 बेड का हो जाएगा।


अब हैं यह स्थिति

अस्पताल की नई बिल्डिंग में अस्थाई एमसीएच विंग है। शिशु रोग ओपीडी ग्राउंड फ्लोर, गर्भवती महिलाओं की जांच प्रथम फ्लोर पर होती है। द्वितीय तल पर प्रसूति वार्ड है। चतुर्थ तल पर स्पेशल न्यू बोर्न चाइल्ड केयर यूनिट है। पांचवें तल पर आपरेशन थियेटर हैं।

23 हजार 425 वर्ग फुट में निर्माण

2018 में मिली थी विंग निर्माण मंजूरी

30 अक्टूबर 2018 को 20 करोड़ रुपए मंजूर

13 करोड़ रुपये पीडब्ल्यूडी के खाते में पहुंचे

Advertisement