Connect with us

पानीपत

गनमैन ने सारी रात जलवाई बीड़ी, पीड़ित थाने पहुंचकर बोला-नहीं चाहिए सुरक्षा

Published

on

Spread the love

गनमैन ने सारी रात जलवाई बीड़ी, पीड़ित थाने पहुंचकर बोला-नहीं चाहिए सुरक्षा

मांगी थी सुरक्षा। आफत गले पड़ गई। गनमैन ने इतना सताया कि पीड़ित अगले ही दिन थाने पहुंच गया। बोला, मजदूरी करके परिवार का पोषण करूं या सुरक्षाकर्मी के लिए रातभर बीड़ी का इंतजाम। उसने दूसरा गनमैन लेने से इन्कार कर दिया। अब गनमैन को हटा दिया गया है। वाकया गढ़सरनाई का है। यहां रहने वाले मजदूर विकास को रंगदारी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी मिली तो सेक्टर 13-17 थाना पुलिस ने उसे गनमैन मुहैया कराया था।

कुछ दिन पहले विकास के पास फोन आया था। फोन करने वाले ने खुद को दिल्ली के बवाना गैंग का काला जठैड़िया बताया। विकास से 10 लाख रुपये मांगे। सात दिन में रुपये नहीं देने पर गोली मारने की धमकी दी। पुलिस के पास मामला पहुंचा तो विकास और उसके परिवार की सुरक्षा के लिए सिपाही पंकज को नियुक्त किया गया। आरोप है कि सिपाही ने विकास को डरा-धमकाकर सारी रात जगाए रखा। उससे बीड़ी जलवाता रहा। उसके स्वजनों को भी नहीं सोने दिया।

विकास ने जागरण से बातचीत में कहा कि वह अगले ही दिन सेक्टर 13-17 थाने गया और गनमैन हटाने की बात कही। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर कमलदीप ने दूसरा गनमैन देने की बात कही तो भी इन्कार कर दिया। उसने पुलिसकर्मी के खिलाफ भी शिकायत नहीं दी है। वहीं, इंस्पेक्टर कमलदीप ने बताया कि इस बारे में आला अधिकारियों को अवगत करा दिया है।

छोटे भाई की मजदूरी से चल रहा घर

विकास ने बताया कि वह फैक्ट्री में काम करता था। दूसरी मंजिल से नीचे गिरने पर उसे चोट लग गई थी। वह तभी से घर पर है। लॉकडाउन में पिता जयपाल का हलवाई का काम छूट गया था। पत्नी नेहा झगड़ा कर मायके सोनीपत के बड़वासनी गांव चली गई। छोटा भाई सूरज हिम्मत कर फैक्ट्री जाता है। उसी से परिवार का गुजारा हो रहा है। धमकी के बाद से परिवार खौफ के साये में जीने को मजबूर है।

पहले भी दागदार हो चुकी है खाकी

आसाराम के खिलाफ दुष्कर्म मामले के मुख्य गवाह सनौली खुर्द गांव के महेंद्र चावला पर 13 जून, 2015 को गोलियां बरसा दी थी। चावला की जान बच गई थी। इसके बाद से चावला की सुरक्षा में पांच पुलिसकर्मी लगाए गए। 28 जून, 2016 को नशा कर ड्यूटी देने पर एएसआइ ओमप्रकाश व नरेश और सिपाही कप्तान को पुलिस लाइन भेज दिया गया था।

गढ़ सरनाई के विकास ने सुरक्षाकर्मी लेने से इन्कार कर दिया है। सिपाही पंकज कुमार ने नशे में पीड़ित को तंग किया है, इसकी शिकायत नहीं है। ऐसा किया है तो मामले की जांच कराई जाएगी।

सतीश कुमार वत्स, डीएसपी मुख्यालय।