Connect with us

विशेष

हरियाणा में बारिश व ओलावृष्टि से मौसम की करवट, हिसार में मनाली जैसा नजारा, अब ठंड दिखाएगी तेवर

Published

on

Advertisement

हरियाणा में बारिश व ओलावृष्टि से मौसम की करवट, हिसार में मनाली जैसा नजारा, अब ठंड दिखाएगी तेवर

 

हरियाणा में मौसम ने करवट ले ली है। रविवार शाम को बारिश और ओलावृष्टि के बाद साेमवार सुबह भी कई जगहों पर बारिश हो रही। अधिकतर स्‍थानों पर घने बादल छाए हुए हैं। इससे मौसम ने करवट ली है और ठंड अब जल्‍द ही अपने तेवर दिखाएगी। ओलावृष्टि से हिसार सहित कई जगहाें पर मनाली और कुफरी जैसा नजारा हाे गया। राज्‍य में अब कोहरे भी छाएगा। तूफान के कारण हांसी-चंडीगढ़ मार्ग पर सैकड़ों पेड़ गिरने से लंबा जाम लग गया। बारिश से वैसे वायु प्रदूषण से मुक्ति मिली है।

Advertisement

हरियाणा के हिसार के नारनौंद के पास ओलावृष्टि के बाद हाइवे का नजारा।

आंधी और बारिश के कारण सोनीपत के खरखौदा के गांव रोहणा में डेयरी की दीवार और छत गिर गई। छत के नीचे दबने से गांव के ही 53 वर्षीय नंबरदार जयप्रकाश और मूल रूप से बिहार के जिला सहरशा के गांव लक्ष्मीपुर व हाल रोहणा निवासी 32 वर्षीय अमलेश मुखिया की मौत हो गई, जबकि 34 वर्षीय मोनू गंभीर रूप से घायल हो गया। डेयरी में बंधे 30 पशुओं में से छह की मौत हो गई और अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए।

Advertisement

ओलावष्टि के बाद हिसार के पास खेतों का दृश्‍य।

Advertisement

सोनीपत के ही गांव खांडा के ईंट-भट्ठे पर पांच वर्षीय बच्ची सीता आंधी में एक लोहे की उड़ती हुई टीन की चपेट में आ गई। इससे उसके दाएं हाथ की बाजू कटकर अलग हो गई और चेहरे व पैर में भी गंभीर चौट आई। बच्ची का इलाज पीजीआइ, रोहतक में चल रहा है। सिरसा , झज्जर, रोहतक, जींद आदि जिलों में भी बारिश ने ठंड का अहसास करा दिया। किसानों ने सब्जियों की फसलों में नुकसान की बात कही है।

जरा संभलकर, अब सर्दी और तीखे तेवर दिखायेगी, धुंध का असर भी होगा

बारिश और ओलावृष्टि से मौसम में ठंड बढ़ गई है और आने वाले दिनों में सर्दी अपने तीखे तेवर दिखायेगी। इसके साथ ही धुंध भी अपना असर दिखाएगी। स्वास्थ्य की बात करें तो इस मौसम में वायरल, एलर्जी की समस्या ज्यादा देखने को मिल सकती है। सर्दी जुकाम भी परेशानी बन सकता है।

अंबाला के डॉक्टर डीएस गोयल का कहना है कि एक और कोरोना का खतरा है तो दूसरी और सर्दी से जुड़ी बीमारियां लोगों की परेशानियों को बढ़ाएंगे। एक और बारिश और ठंडी हवाएं परेशानी पैदा करेगी तो वहीं पहाड़ों में बर्फबारी मैदानी इलाकों में सर्दी बढ़ा देगी।

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *