Connect with us

City

हरियाणा में 24 घंटे में सबसे ज्‍यादा बारिश, जलभराव से जाम

Published

on

Advertisement

Advertisement

Advertisement

हरियाणा के कई जिलों में लगातार दूसरे दिन भी बरसात का सिलसिला जारी है। मंगलवार को शुरू हुई मूसलाधार बरसात ने बुधवार को अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। बरसात सुबह साढ़े चार बजे शुरू हुई और रुक-रुककर साढ़े 11 बजे तक जारी रही। 24 घंटे में रिकार्ड 245 एमएम बरसात दर्ज की गई है। पानीपत, करनाल सहित कई जिलों में रिकॉर्ड बारिश से जलभराव की स्थिति रही।

पानीपत में मूसलाधार बारिश

Advertisement

पानीपत में सुबह करीब पौने दस बजे से मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। साढ़े 11 बजे बारिश रुकी। बारिश की वजह से कई क्षेत्रों में जलभराव हो गया। साथ ही जीटी रोड में जलभराव होने की वजह से जाम लग गया। कई गाडि़यां जाम में फंसी रहीं। वहीं जलभराव से गाडि़यां पानी में बंद हो गईं।

24 घंटे में 245 एमएम बरसात अपने आप में रिकार्ड

Advertisement

केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के प्रधान वैज्ञानिक डा. डीएस बुंदेला ने कहा कि ताबड़तोड़ बरसात हुई है। 24 घंटे में हुई 245 एमएम बरसात अपने आप में एक रिकार्ड है। 15 जुलाई 1968 में हुई 242 एमएम बरसात का रिकार्ड भी ध्वस्त हो गया है। यह बरसात धान उत्पादक किसानों के लिए संजीवनी का काम करेगी।

जलभराव की वजह से पानीपत में जीटी रोड पर लगा जाम।

हर तरफ जाम की स्थिति

बरसात के कारण लोग घरों से कार्यालयों में जाने के लिए कार लेकर निकले, जिससे सभी चौक-चौराहों पर जाम की स्थिति बन गई। स्थिति को संभालने के लिए बरसात में ही पुलिसकर्मी जीटी रोड पर अन्य चौराहों पर तैनात रहे। वाहन चालकों को दिनभर परेशानियों का सामना करना पड़ा। बरसात से तापमान में भी भारी गिरावट आई है। अधिकतम तापमान गिरकर 26.0 डिग्री सेल्सियस तक आया गया, वहीं न्यूनतम तापमान 20.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा 2.8 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चली। केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के मुताबिक आने वाले 24 घंटे में बूंदाबांदी का दौर जारी रह सकता है।

बारिश से घट गई बिजली की खपत

दो दिन से जिले में चल रही झमाझम बरसात से एसी व कुलर बंद हो गए हैं। एग्रीकल्चर सप्लाई का लोड भी कम हो गया है। बरसात अधिक होने से धान के खेत पानी से लबालब हैं। पिछले 24 घंटे में जिले में 1.58 करोड़ यूनिट की खपत थी, जो बुधवार सुबह घटकर महज 1.19 करोड़ तक आ गई है। बरसात का यह सिलसिला यदि इसी प्रकार से जारी रहता है तो यह लोड एक करोड़ यूनिट से भी कम आ सकता है।

बरसात में ट्रैफिक कंट्रोल करने में छूटे पसीने

जिले में बरसात के कारण हुए जलभराव के कारण शहर में अलग-अलग जगहों पर जाम की स्थिति बनी रही। ट्रैफिक पुलिस कर्मचारियों के बरसात में ट्रैफिक कंट्रोल करने में पसीने छूट गए। हर व्यक्ति अपने गंतव्य तक जल्द पहुंचने के लिए ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते हुए देखा गया। जिस कारण दिक्कतें ओर ज्यादा बढ़ गई।

Advertisement

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *