Connect with us

Medical Update

रोहतक में दिल्‍ली से आने वालों से बढ़ रहा खतरा, अब एंट्री प्‍वाइंट पर पुलिस की नजर

Published

on

रोहतक में दिल्‍ली से आने वालों से बढ़ रहा खतरा, अब एंट्री प्‍वाइंट पर पुलिस की नजर

 

रोहतक में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से जिला प्रशासन ने आज कुछ कड़े कदम उठाने का निर्णय लिया है। शुक्रवार की रात उपायुक्त आरएस वर्मा की अध्यक्षता में उनके कैंप कार्यालय में अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में सर्वसम्मति से फैसला किया गया कि दूसरे जिलों खासकर दिल्ली से आने वाले लोगों को रोकने के लिए नगर के सभी प्रवेश मार्गों पर पुलिस नाके लगाए जाए।

रोहतक में दिल्‍ली से आने वालों से बढ़ रहा खतरा, अब एंट्री प्‍वाइंट पर पुलिस की नजर

वर्मा ने कहा कि इन नाकों पर समुचित संख्या में पुलिस बल तैनात किया जाए और साथ में सक्षम युवा भी इन स्थानों पर लगाए जाएं। इस प्रकार से शहर में प्रवेश करने वाले सभी लोगों का पता व मोबाइल नंबर आदि का पूरा रिकॉर्ड रखा जाएगा। नाकों पर ड्यूटी देने वाले सक्षम युवाओं द्वारा इन सभी आगंतुकों के मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करवाया जाएगा। कोविड-19 मुक्त प्रमाण पत्र के बिना किसी भी व्यक्ति को शहर में रहने की अनुमति नहीं दी जाएगी। यह प्रमाण पत्र सिविल सर्जन रोहतक द्वारा दिया जाएगा। इसके साथ ही उन मकान मालिकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि अगर उनके यहां कोई किराएदार आता है तो उसकी सूचना नगर निगम व स्थानीय पुलिस स्टेशन को अवश्य दें।

वहीं, सिविल सर्जन को निर्देश दिए गए कि जिन क्षेत्रों में मरीज पाए गए हैं उनकी बार-बार स्क्रीङ्क्षनग की जाए ऐसे लोगों का भी पता लगाया जाए जो मरीज के संपर्क में रहे हैं। सिविल सर्जन को इस संबंध में कल तक अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है। बैठक में मेयर मनमोहन गोयल, नगर निगम आयुक्त प्रदीप गोदारा, अतिरिक्त उपायुक्त महेंद्रपाल, एसडीएम राकेश कुमार सैनी, नगराधीश एवं जिला परिषद के सीईओ ब्रह्म प्रकाश अहलावत, डीएसपी गोरखपाल व सिविल सर्जन डा. अनिल बिरला सहित संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

पार्कों में घूमने वाले प्रत्येक व्यक्ति की होगी स्क्रीनिंग 

बैठक में पुलिस के सहयोग से नगर निगम द्वारा नगर के विभिन्न पार्कों में घूमने वाले लोगों की स्क्रीङ्क्षनग करने का विशेष अभियान चलाने का भी निर्णय लिया गया। वहीं उन लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी जो नो पार्किंग जोन में अपने वाहनों को खड़ा करेंगे। बैठक में नगर के मेयर मनमोहन गोयल ने उन लोगों की सूची प्रदान की जो दिल्ली या दूसरे स्थानों से आकर रोहतक में रहने लगे हैं।

क्वारंटाइन के नियम भी होंगे सख्त

बैठक में निर्णय लिया गया कि ड्यूटी मैजिस्ट्रेट पुलिस के साथ इस संबंध में तुरंत कार्रवाई आरंभ करें और ऐसे लोगों की जांच करने के उपरांत उन्हें केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी की गई एसओपी के अनुसार क्वारेंटाइन सुनिश्चित करें। बैठक में सभी ड्यूटी मैजिस्ट्रेट और नोडल अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि वे अधिकतम उपस्थिति क्वारेंटाइन जोन में रखें ताकि इन क्षेत्रों के लोग घरों से बाहर न आ सकें। अगर कोई मरीज घर से बाहर पाया जाता है तो उसे तुरंत प्रभाव से अस्पताल में दाखिल करा दिया जाएगा और इसके साथ ही संबंधित मरीज व उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई आरंभ कर दी जाएगी।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *