Connect with us

विशेष

हाईवे पर चलती होंडा सिटी गाड़ी पर चावल से भरा भारी कंटेनर पलटा, देखें फिर क्या हालात हुई

Published

on

Advertisement

हाईवे पर चलती होंडा सिटी गाड़ी पर चावल से भरा भारी कंटेनर पलटा, देखें फिर क्या हालात हुई

 

कहते हैं कि जिसकी मौत जहां लिखी होती है, वो वहां पहुंच ही जाता है। ऐसा ही कुछ हुआ दिल्ली में लाजपत नगर की रेड लाइट (Red Light) पर। रेड लाइट से कुछ दूर पहले से एक ट्रोला आ रहा था। सबकुछ सामान्य था। रेड लाइट पर पहुंचते ही एक होंडा सिटी कार (Honda City Car) अचानक से ट्रोला के सामने आ गई। ट्रोला के ड्राइवर ने कार को बचाने के लिए एक तरफ मोड़ने की कोशिश की, लेकिन इस कोशिश में ट्रोला पर लदा भारी-भरकम कंटेनर उसी होंडा सिटी कार पर आ गिरा। इस सड़क हादसे (Road Accident) में कार से भी ज़्यादा लंबे कंटनेर के गिरते ही कार उसके नीचे दब गई। कार में दो लोग सवार थे और दोनों की कार के अंदर ही मौत हो गई। सूचना मिलते ही दिल्ली पुलिस मौके पर पहुंच गई। कार की हालत बता रही थी कि कंटेनर कितना भारी था।

Advertisement

कार की छत और सड़क में रह गया सिर्फ एक फुट का अंतर

Advertisement

वैसे तो कोई भी आम कार सड़क से 4 से 5 फुट तक ऊंची होती है, लेकिन कंटेनर गिरने के बाद होंडा सिटी कार की छत सड़क से महज 1 फुट ही ऊंची बची। कार बुरी तरह से पिचक गई। कंटेनर में भारी-भरकम सामान बताया जा रहा है। कार को देखने के बाद ही महसूस हो जाता है कि उसमें बैठे लोगों का क्या हाल हुआ होगा। कार का इंजन तक पिचक कर टूट-फूट गया। कार का नंबर DL14CE3055 बताया जा रहा है। पुलिस के अनुसार, सड़क हादसे में मरने वालों के नाम अंकित मल्होत्रा और रंजन कालरा बताए जा रहे हैं। दोनो इवेंट कंपनी चलाते थे। काम के सिलसिले में ही कोलकाता जाने के लिए एयरपोर्ट की ओर जा रहे थे

Advertisement

सड़क हादसे से जुड़े जरूरी प्रावधान

नए प्रावधानों के तहत दिल्ली के प्राइवेट अस्पताल अब सड़क हादसे में घायल शख्स को लौटा नहीं सकते हैं। साथ ही निजी अस्पतालों को मरीजों का इलाज कैशलेस भी करना होगा। यह योजना सिर्फ और सिर्फ सड़क हादसे में पीड़ितों के लिए है। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस योजना को लॉन्च किया था। इस योजना को लॉन्च करने के बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि उनकी सरकार हर दुर्घटना पीड़ितों की जान बचाएगी। दिल्ली के हर नागरिक की जान हमारे लिए कीमती है। सड़क हादसे में शिकार हर शख्स का इलाज का पूरा खर्च भी दिल्ली सरकार उठाएगी। घायल को अस्पताल पहुंचाने वाले शख्स फरिश्ते कहलाएंगे

Advertisement