Connect with us

City

अगर बच्‍चे के दिल में है छेद तो फ्री होगी सर्जरी, बस कुछ शर्त जरूरी हैं।

Published

on

बच्‍चे के दिल में है छेद
Advertisement

शून्य से अठारह साल के बच्चे-किशोर के दिल में छेद है। सरकारी स्कूल में अध्यनरत है या 134-ए के तहत निजी स्कूल में फीस माफ है। किसी चाइल्ड केयर इंस्टीट्यूशन (सीसीआइ) में रह रहा तो ऐसे बच्चों की राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के तहत निश्शुल्क सर्जरी कराई जाती है।

आरबीएसके के जिला नोडल अधिकारी डा. ललित वर्मा ने यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि स्कूल हेल्थ टीमें विद्यालयों में जाकर बच्चों का स्वास्थ्य जांचती थी, तब दिल में छेद वाले बच्चों को चिन्हित किया जाता था। कोरोना महामारी में स्कूल एक्टिविटी बंद हैं। किसी अभिभावक के बच्चे को ऐसी कोई दिक्कत है तो वह सिविल अस्पताल या नजदीकी सरकारी फैसिलिटी केंद्र में पहुंचकर, लाभ प्राप्त कर सकता है। दिल में छेद के अलावा दूसरी दिक्कत है तो भी इलाज फ्री मुहैया कराया जाता है। उन्होंने बताया कि गर्भ में पल रहे शिशु के दिल में छेद का अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट से पता चल जाता है।

Advertisement

excess consumption of alcohol leads to heart problem cad know how to  prevent it - World Heart Day 2018: ज्यादा शराब पीने से दिल को 'कैड' का  खतरा, जानें इससे कैसे बचें

डा. वर्मा के मुताबिक दिल के छेद की सर्जरी महंगी है, एक से तीन लाख रुपये तक का खर्च आता है। हर साल 40-50 बच्चों की सर्जरी फ्री कराई जाती है। इस साल भी पांच बच्चे चिन्हित हो चुके हैं। बच्चों के कटे होंठ-चिपके तालू की सर्जरी भी निशुल्क करायी जाती है।

Advertisement

छह फैसिलिटी केंद्रों में टीमें मौजूद

डा. वर्मा के मुताबिक सिविल अस्पताल सहित समालखा, सिवाह, बापौली, नौल्था और मतलौडा के सरकारी अस्पताल में आरबीएसके की टीमें बैठती हैं। अभिभावक बच्चा और उसकी मेडिकल हिस्ट्री लेकर वहां पहुंचें, ताकि योजना का लाभ मिल सके।

बच्चे के दिल में छेद के जानिए लक्षण और इलाज - know-the-holes-in-the-heart-of-the-child-symptoms-and-treatment  - Nari Punjab Kesari

Advertisement

रोग के लक्षण

-बच्चे का रंग नीला पड़ जाता है।

-नाखून और होंठ भी नीले पड़ जाते हैं।

-सांस लेने में दिक्कत होती है।

-शिशु को दूध पीने में दिक्कत आती है।

-पसीना आना, वजन कम और थकान।

बच्चों के दिल में छेद का कारण

-ज्यादातर केस जन्मजात सामने आए।

-गर्भवती महिला को रुबैला-खसरा होना।

-कुछ मेडिसन का दुष्प्रभाव।

-गर्भवती महिला द्वारा शराब का सेवन।

-गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान, कोकीन सेवन।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *