Connect with us

विशेष

पोते को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए बुजुर्ग दंपति ने दी ट्रेन के सामने कूदकर जान, दोनों को था कोरोना

Published

on

Advertisement

पोते को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए बुजुर्ग दंपति ने दी ट्रेन के सामने कूदकर जान, दोनों को था कोरोना

 

 

Advertisement

भारत में आई कोरोना की दूसरी लहर हर रोज हजारों की लोगों की जान ले रही है। इसके अलावा कुछ लोग वो भी हैं जो कोरोना वायरस से नहीं बल्कि उसके डर के कारण अपनी जान खुद ही ले रहे हैं। राजस्थान के कोटा में एक बुजुर्ग दंपति ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान देदी। दोनों कोरोना संक्रमित थे, दोनों को डर था कि वह अपने पोते को संक्रमित कर देंगे। इसी डर से दोनों ट्रेन के आगे कूद गए।

पुलिस ने बताया कि उसे  रेलवे ने आज कोटा शहर में दिल्ली-मुंबई रेलवे ट्रैक पर मृत बुजुर्ग दंपति के बारे में जानकारी दी है। डिप्टी एसपी कोटा सिटी बीएस हिंगड ने बताया कि पुलिस ने घटनास्थल पर जाकर आत्महत्या करने वाले बुजुर्ग दंपति के शवों को बरामद किया और यह भी बताया कि उनकी उम्र 70 से 75 वर्ष के बीच थी।

Advertisement

train accident

बाद में पुलिस ने जांच के दौरान यह पाया गया कि बुजुर्ग दंपति कोरोना वायरस पॉजिटिव था और उन्हें डर था वे अपने परिवार के सदस्यों, विशेष रूप से उनके 19 वर्षीय पोते को संक्रमित कर देंगे”।

Advertisement

मृतक के परिवार ने खुलासा किया कि बुजुर्ग दंपति ने अपने इकलौते बेटे को 8 साल पहले एक हादसे में खो दिया था, जिसके बाद वे डर गए थे कि वे अपने एकल पोते और परिवार के अन्य सदस्यों को संक्रमित नहीं करना चाहते थे, जिनके साथ वे एक ही घर में रह रहे थे।

बुजुर्ग दंपति का पोता अपनी मां और 2 बहनों के साथ कोटा शहर के रेलवे कॉलोनी इलाके में रहता है। हिंगड ने कहा कि बुजुर्ग दंपति का कोविड संक्रमण गंभीर नहीं था लेकिन फिर भी उन्होंने अपने पोते को संक्रमित करने के डर से दम तोड़ दिया। उन्होंने कहा कि मृतक की शव यात्रा कोविड -19 प्रोटोकॉल के कारण नहीं की जाएगी और शवों को अंतिम संस्कार के लिए परिवार को सौंप दिया जाएगा।

 

 

Source : LIVHINDUSTAN

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *