Connect with us

पानीपत

बाजार में निकलें, पर न बरतें लापरवाही, क्योंकि कोरोना को हराना है

Published

on

बाजार में निकलें, पर न बरतें लापरवाही, क्योंकि कोरोना को हराना है

 

 

दोपहर के 12 बजे थे। बाजार में चहल-पहल बढ़ गई थी। सलारजंग गेट से अंदर आते ही भीड़ देखकर अंदाजा लग सकता है कि यहां पर कोरोना को लेकर कोई चिता या गंभीरता नहीं दिखती। कोरोनों संक्रमण के केस दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। लॉकडाउन में जिस तरह सावधानी बरती, अनलॉक में तो उससे ज्यादा सावधानी रखनी जरूरी है। अगर हम बेफिक्र हो गए तो वायरस घर-घर फैल जाएगा। जागरण की टीम ने इंसार बाजार, पालिका बाजार का जायजा लिया।

बाजारों में जहां कुछ लोग वायरस के प्रति खौफजदा नहीं दिखे, वहीं कई दुकानदार ऐसे भी मिले, जो पूरी सावधानी के साथ काम कर रहे हैं। कोई ग्राहक बिना मास्क पहने अंदर आता है तो सबसे पहले निवेदन करते हैं कि मास्क लगाएं।
बाजार में निकलें, पर न बरतें लापरवाही, क्योंकि कोरोना को हराना है
अरोड़ा गारमेंटस से सीखें, सैनिटाइज जरूर कराएं

इंसार बाजार में है अरोड़ा गारमेंट्स शोरूम। टीम ने यहां देखा कि दुकानदार एक ग्राहक के हाथों को सैनिटाइज कर रहे थे। नाम पूछा तो इन्होंने बताया कि वह साहिल हैं। जब से दुकान खोलने का निर्देश मिला है, उसी दिन से सैनिटाइजर मंगा लिए थे। खुद तो मास्क पहनते ही हैं, ग्राहकों को भी निवेदन करते हैं कि बिना मास्क अंदर न आएं। कई बार कोई ग्राहक बुरा मानता है तो उसे समझाते हैं, मिलकर ही तो इस बीमारी को हराना है। एक भी व्यक्ति की चूक, समाज पर भारी पड़ सकती है।

बाजार में सुरक्षा, सतर्कता के प्रबंध नहीं

बाजार में सुरक्षा, सतर्कता के प्रबंध नहीं दिखे। एक तरफ जहां मुहल्लों में चालान किए जा रहे हैं, दूसरी तरफ बाजार में प्रशासन की तरफ से जागरूकता का अभियान नहीं चलाया जा रहा। सुशील भराड़ा का कहना है कि टीम चालान काटे पर कम से कम जागरूक तो करे ही। भीड़ बढ़ जाती है। कोई जाम खुलवाने वाला नहीं होता। इसी भीड़ में से कोई कोरोना संक्रमित भी हो सकता है।