Connect with us

Cities

Karnal में Italy से पहुंचा दंपती, Coronavirus संदिग्ध, अब तक तीन आए सामने

Published

on

हरियाणा में एक के बाद एक कोरोना के संदिग्ध मरीज सामने आ रहे हैं। इनमें से कुछ को छुट्टी भी दे दी गई है। करनाल में अब तक तीन कोरोना संदिग्ध मरीज सामने आए हैं। उन्हें आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

इटली से लौटा एक दंपती नागरिक अस्पताल में पहुंचा। दंपती को जुकाम की शिकायत थी। फ्लू ओपीडी में दोनों का चेकअप किया गया। इसके बाद उन्हें नागरिक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया गया। उनके सैंपल लेकर कोरोना की जांच के लिए भेज दिए हैं। अभी रिपोर्ट का इंतजार है। फिलहाल 14 दिन तक यह दंपती स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में ही रहेगा।

Karnal में Italy से पहुंचा दंपती, Coronavirus संदिग्ध, अब तक तीन आए सामने

टीम को दरवाजे से लौटा दिया था दंपती ने

यह दंपती 3 मार्च की रात को करनाल लौटा था। पड़ोस के लोगों ने इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया और दंपती की जांच का आग्रह किया। अगले ही दिन 4 मार्च को विभाग की टीम दंपती के घर पहुंची, लेकिन दंपती ने दरवाजा नहीं खोला। अब जब लक्षण दिखाई दिए तो आनन-फानन में यह दंपती नागरिक अस्पताल में पहुंच गया।

फेसबुक दोस्त आया था करनाल

असंध के गांव में फेसबुक दोस्त न्यूजीलैंड से आया था। वह तीन दिन तक रहा और गांव के युवक के साथ कुरुक्षेत्र भी गया था। उसके बाद से असंध के युवक को खांसी सहित बुखार से पीडि़त हो गया। कोरोना को लेकर वह स्वास्थ्य विभाग में जांच को पहुंचा। जहां से उसे करनाल रेफर कर दिया गया और अब आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।

भीड़ कम करने की एडवाइजरी

डीजी हेल्थ सर्विसेज की तरफ से भी एडवाइजरी जारी कर अस्पतालों में भीड़ कम करने के निर्देश दिए हैं, हालांकि यह जिले की स्थिति पर निर्भर करेगा कि वहां कैसी स्थिति है। लोगों को मास्क इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है। एक-दूसरे से कम से कम एक मीटर की दूरी बनाने को भी कहा गया है। सिविल सर्जन डॉ. अश्विनी आहुजा ने कहा कि अभी जिले में कोई भी संक्रमित केस सामने नहीं आया है।

जरूरी काम पर ही घरों से निकल रहे बाहर

कोरोना के लिए प्रदेश सरकार की हिदायतों के अनुसार सतर्कता बरती जा रही है। इसी मद्देनजर जहां शिक्षण संस्थानों में विद्यार्थियों की छुट्टियां कर दी हैं वहीं, खेल मंत्री संदीप सिंह के आदेश पर प्रशिक्षण बंद कर दिया है। बस स्टैंड पर रोजाना के मुकाबले सुरक्षा की हिदायत से यात्रियों की संख्या कम दिखाई दी। स्कूल-कॉलेज विद्यार्थियों की आवाजाही के चलते बस स्टैंड पर भीड़ रहती थी, जबकि उनकी छुट्टी के कारण भीड़ में कमी आई। नागरिक अस्पताल और कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में पहले के मुकाबले खांसी-जुकाम की शिकायत लेकर पहुंचने वाले मरीजों की ओपीडी बढ़ी है। परीक्षा केंद्रों में बच्चों के बैठने के प्लान में दूरी पर बैठाया गया। जिला सचिवालय से लेकर न्यायिक परिसर तक कमोबेश यही नजारा है।

बस स्टैंड पर यात्रियों की संख्या में कमी

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से आवाजाही करने वाले लोगों में जागरूकता आई है। इसी क्रम में जरूरी पडऩे पर ही बसों का इस्तेमाल किया जा रहा है। अधिकतर यात्री निजी वाहनों को प्राथमिकता दे रहे हैं। बुधवार को बस स्टैंड पर यात्रियों की संख्या रोजाना के मुकाबले कम दिखाई दी। निङ्क्षसग निवासी लीलाराम ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए सरकार और प्रशासन के प्रयास सराहनीय है और ग्रामीण स्तर पर भी लोगों में जागरूकता आई है। रिश्तेदारी में जाने के लिए पत्नी और बच्चे भी तैयार थे, लेकिन बस में सफर के चलते परिवार के अन्य सदस्यों ने जाने से मना कर दिया। कोरोना से बचाव के चलते लोगों को खुद भी समझदार होना होगा।

सेक्टर-14 कॉलेज में शिक्षकों का आना बंद

उच्चतर शिक्षा विभाग की ओर से कोरोना से बचाव के लिए कॉलेजों को बंद कर दिया है। सेक्टर-14 राजकीय कॉलेज खुला था और टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ मौजूद था, जबकि कक्षाएं नहीं ली जा रही हैं। एक-दो विद्यार्थी अपनी समस्या को लेकर परिसर में पहुंचे थे। उच्चतर शिक्षा जिला अधिकारी डॉ. रेखा शर्मा ने बताया कि टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ को कॉलेज में न आने के आदेश जारी किए गए हैं। इस दौरान अगर विद्यार्थी को समस्या आती है तो फोन या अन्य साधनों से कॉलेज में संपर्क कर सकता है।

लघु सचिवालय के सभी कार्यालयों को किया सैनेटाइज

कोरोना पर एहतियात के लिए लघु सचिवालय स्थित सभी कार्यालयों को सेनेटाइज किया गया और यह आगे भी जारी रहेगा, जिससे कि सचिवालय में कार्यरत कर्मचारी, पत्रकार और आमजन को बचाया जा सके। डीसी निशांत कुमार यादव ने बताया कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सेनेटाइज का कार्य लघु सचिवालय के दोनों भवन सहित, मीडिया सेंटर और न्यायिक परिसर के सभी तलों पर 31 मार्च तक प्रतिदिन सुबह कर्मचारियों के कार्यालय पहुंचने के साथ ही किया जाएगा। यह कार्य नगराधीश डॉ. पूजा भारती के मार्गदर्शन मे सहायक जिला नाजर अमित नैन सहित पूरी टीम द्वारा किया जा रहा है। डीसी ने आमजन से अपील की कि जिला के सभी निजी संस्थान संचालक भी इसी प्रकार सेनेटाइज का प्रयोग करते हुए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और ज्यादा लोगों के आने जाने वाले प्रतिष्ठान में, संचालक आमजन के हाथ भी सेनेटाइज कराते रहें और अपने कर्मचारियों के लिए मास्क की व्यवस्था करें।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *