Connect with us

City

पानीपत में किसान महापंचायत LIVE

Published

on

Advertisement

टिकैत बोले- आंदोलन के इतिहास में सत्ता में बैठे लोगों को 700 किसानों का हत्यारा लिखा जाएगा, चढूनी ने कहा- PM की कोठी के आगे गाड़ेंगे टेंट

पानीपत जिले में रविवार को जिला स्तरीय किसान महापंचायत का आयोजन हुआ। नई अनाज मंडी के शेड में आयोजन के दौरान सभी अतिथि और किसान नीचे ही बैठे। किसी के लिए भी सोफे या कुर्सी की व्यवस्था नहीं रही। मंच पर और खुले शेड में जमीन पर दरी बिछाई गई। राकेश टिकैत ने महापंचायत को संबोधित करते हुए कहा कि जब भी किसान आंदोलन का इतिहास लिखा जाएगा तो वर्तमान में सत्ता में बैठे लोगों को 700 किसानों का हत्यारा कहा जाएगा। सरकार किसानों को बर्बाद करने पर तुली है। सरकार ने दिल्ली में 10 साल पुराने ट्रैक्टर बंद कर दिए हैं। उन्होंने किसानों से कहा कि अपने पुराने ट्रैक्टर तैयार रखो कभी भी कॉल आ सकती है। यदि सरकार नहीं मानी तो दिल्ली में फिर 10 साल पुराने ट्रैक्टर चलेंगे।

महापंचायत को संबोधित करते हुए भाकियू अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि यदि सरकार ने किसानों की मांगें जल्द नहीं मानीं तो प्रधानमंत्री की कोठी के आगे टेंट लगाएंगे। सरकार किसानों को कमजोर समझने का वहम निकाल दे। आंदोलन में 700 किसान शहीद हो चुके हैं। किसान ऐसे ही विरोध जारी रखेंगे, सरकार का कोई नुमाइंदा गांव में नहीं घुस पाएगा। कोई भी किसान समन आने पर न तो कोर्ट जाएगा और न ही थाने। पुलिस पकड़ने आए तो उन्हें गिरफ्तार कर सकती है।

Advertisement

एक-एक चीज का हिसाब लेंगे, झोला उठा नहीं जाने देंगे
किसान नेता अभिमन्यु कुहाड़ ने कहा कि किसान आंदोलन आर्थिक आजादी की लड़ाई है। सरकार में आने से पहले मोदी जी ने दो करोड़ युवाओं को हर साल रोजगार देने का वादा किया था। उल्टा युवाओं को बेरोजगार कर दिया। मोदी जी को ऐसे ही झोला उठा कर जाने नहीं देंगे, एक-एक चीज का हिसाब उनसे मांगा जाएगा।

Advertisement

आंदोलन को बदनाम करवा रही सरकार
भकियू के राष्ट्रीय महासचिव युद्धवीर ने कहा की मीडिया के माध्यम से सरकार किसानों के आंदोलन को बदनाम कर रही है। उन्होंने कहा कि जो कानून 2012 में काले थे और 2020 आते-आते साफ सुथरे कैसे हो गए। MSP लागू न होने से मंडियां बंद हो रही हैं और किसान की फसल कौड़ियों के भाव जा रही है।

Advertisement

 

किसान नेता जगजीत सिंह ने कहा कि सरहद पर किसान के बच्चे रक्षा कर रहे हैं और उन्हें ही अपने हक के लिए सड़क पर उतरना पड़ रहा है। अपने हक के लिए लड़ाई लड़ रहे किसानों पर लाठियां बरसाईं जा रही हैं। किसान इससे दबने वाले नहीं हैं, वे मांगें पूरी होने तक पीछे नहीं हटेंगे। वहीं करनाल से पहुंचे किसान नेता सुभाष गुर्जर ने कहा कि पानीपत की धरती ऐतिहासिक है। पिछले 10 महीने से राकेश टिकैत और अन्य नेताओं की अगुवाई में किसान आंदोलन चल रहा है। हरियाणा के किसान पूरी तरह इनके साथ हैं। जहां इनका का पसीना गिरेगा हरियाणा के लोग खून बहा देंगे।

किसानों के लिए 5 रूट तय
रविवार को किसान महापंचायत के साथ दो पालियों में हरियाणा पुलिस की SI भर्ती की लिखित परीक्षा भी है। इसके लिए पानीपत जिले में 30 केंद्र बनाए गए हैं। अधिकतर केंद्र शहर में ही होने के कारण पुलिस-प्रशासन ने ट्रैफिक व्यवस्था बनाए रखने के लिए रूट निर्धारित किए हैं। किसान महापंचायत में आने वाले लोगों के लिए पांच रास्ते तय किए गए हैं। ट्रैफिक व्यवस्था संभालने के लिए पुलिस को संयुक्त किसान मोर्चा के वालंटियर्स भी सहयोग कर रहे हैं।

आयोजन के लिए 26 सदस्यीय कमेटी
महापंचायत के आयोजन और भीड़ जुटाने के लिए 26 सदस्यीय कमेटी लगी है। पंचायत के आयोजन से प्रबंधन तक की जिम्मेदारी इसी कमेटी के पास है। कमेटी में भाकियू प्रदेश अध्यक्ष रतन मान, जिला प्रधान सोनू मालपुरिया और कमेटी प्रधान रमेश मलिक रिसालू शामिल हैं।

80 फीट चौड़े और 470 फीट लंबे शेड में आयोजन
महापंचायत का आयोजन नई अनाज मंडी के 80 चौड़े और 470 फीट लंबे टीन शेड में हो रहा है। यहां पर लगाया गया मंच 40 फीट लम्बा और 38 फीट चौड़ा है। मौसम खराब होने को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

Advertisement