Connect with us

City

पानीपत से अपहृत किशोर दिल्ली से जान बचाकर लौटा

Published

on

Advertisement

पानीपत से अपहृत किशोर दिल्ली से जान बचाकर लौटा, कर रहे काउंसलिंग

पानीपत। जसबीर कॉलोनी से सोमवार सुबह करीब 11 बजे कक्षा आठ में पढ़ने वाले 12 वर्षीय किशोर का अपहरण हो गया। अपहरणकर्ता किशोर को दिल्ली ले गया, जहां से वह किसी तरह जान बचाकर मंगलवार की रात 10 बजे पानीपत लौट आया। फिलहाल चाइल्ड वेलफेयर कमेटी उसकी काउंसलिंग कर रही है।

किशोर ने पिता को बताया कि एक युवक उसे ट्रेन के जरिए पानीपत से दिल्ली और दिल्ली से शाहबाद स्थित एक बंद कमरे में लेकर गया था। जहां एक रात रखा। मंगलवार की शाम पांच बजे कमरे में कोई नहीं होने पर वह किसी तरह चंगुल से निकलकर भागा। दिल्ली रेलवे स्टेशन आया और ट्रेन में बैठकर पानीपत आ गया। किशोर ने पिता को बताया कि उसने युवक को फोन पर बात करते सुना था कि वे और भी बच्चों का अपहरण करने वाले हैं।

Advertisement

पानीपत। अपने मां-बाप के साथ षादिक।

नूरवाला स्थित जसबीर कॉलोनी निवासी पिता अलीजान ने बताया कि वह ई-रिक्शा चलाता है। उसके तीन बच्चे है। बड़ा बेटा 12 वर्षीय सादिक सोमवार की सुबह साढ़े 10 बजे घर आया और खाना खाने के बाद 11 बजे घर से निकल गया। इसके बाद नहीं लौटा। किला थाना पुलिस ने अपहरण की शिकायत दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। मंगलवार सुबह उनके पास एक कॉल आया, लेकिन हेलो कहने के बाद कट गया। इस बारे में पुलिस को बताया, लेकिन फोन बंद मिला। मंगलवार की रात पानीपत रेलवे स्टेशन पर खोजने के दौरान बेटा वहां मिला।

Advertisement

बच्चे की जुबानी:

घर से निकलने ही उसके साथ एक युवक चलने लगा। तभी अचानक बेहोश हो गया। होश आया तो पानीपत रेलवे स्टेशन पर था। फिर उसे दिल्ली की ट्रेन में बैठाया गया। युवक ने फिर एक रुमाल निकालकर सुंघाया और बेहोश कर दिया। अब होश आने पर दिल्ली रेलवे स्टेशन पर था। युवक ने कहा कि चप्पल की फैक्टरी में काम करेगा, जहां 500 रुपये मिलेंगे। इसके बाद उसे रात आठ बजे उसे शाहबाद रेलवे स्टेशन के पास एक कमरे में ले जाया गया।

जहां उसे फिर बेहोश कर दिया गया। मंगलवार सुबह सात बजे होश आया। खाना खिलाने के बाद कोल्ड ड्रिंक पिलाई, जिससे वह फिर बेहोश हो गया। जिसके बाद शाम पांच बजे होश आया, तब कमरे में कोई नहीं था और वह भागने में कामयाब हो गया।

Advertisement

मौका पाकर किया था कॉल, फिर काट दिया

किशोर ने बताया कि अपहरणकर्ता के पास चार-पांच फोन थे। एक फोन उसके हाथ लग गया था और मौका पाकर उसने बुआ के लड़के सोनू का कॉल किया था, लेकिन हेलो करते ही अपहरणकर्ता को आवाज सुनाई दी, जिस पर उसने कॉल काट दिया था। किशोर ने बताया कि आरोपी किसी से फोन पर कह रहा था, इस बार दशहरे पर तीन तुम और दो बच्चे मैं लेकर आऊंगा।

पिता बोला: पुलिस साथ चले तो बेटा आरोपी के ठिकाने का बताने को तैयार

किशोर के पिता ने कहा कि बेटा मिलते ही पुलिस को सूचना दे दी थी। बेट ने जो भी बताया, उसे पुलिस को बता दिया था। पुलिस से आरोपी युवक को पकड़ने की बात कही, लेकिन गंभीरत से नहीं लिया गया। अगर पुलिस साथ चले तो बेटा आरोपियों के ठिकाने बताने को तैयार है।

सीडब्ल्यूसी से कराएंगे काउंसलिंग: महिपाल

परिजनों की शिकायत पर अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कर बच्चे की तलाश शुरू कर दी थी, मंगलवार रात उसे बरामद कर लिया गया । वीरवार को सीडब्ल्यूसी से काउंसलिंग कराई जाएंगी। जिसके बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी। – इंस्पेक्टर महिपाल सिंह, किला थाना प्रभारी

Advertisement