Connect with us

City

जानिए हरियाणा में अगले 7 दिन कैसा रहेगा मौसम

Published

on

Advertisement

उत्तर भारत के मैदानी इलाकों जैसे पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान के पूर्वी और उत्तरी हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से रुक-रुककर बारिश हो रही है। सावन में बरसात की झड़ी से ना केवल गर्मी व उमस से लोगों को राहत मिली है बल्कि धान की फसल के लिए भी संजीवनी का काम कर रही है। मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि देश के उत्तरी मैदानी इलाकों में बरसात का सप्ताह आने वाला है।

Advertisement

 

पानीपत में बारिश की वजह से जलभराव।

Advertisement

तीसरा निम्न दबाव का क्षेत्र अच्छी तरह से चिह्नित हो गया है। जल्द ही यह तटीय इलाकों को पार करके पूर्वी भागों तक पहुंच जाएगा। इसके बाद, इस मौसमी सिस्टम के कमजोर भाग का अवशेष उत्तर भारत तक पहुंच जाएगा। इसके साथ ही यह सिस्टम मानसून टर्फ को भी को अपनी ओर खींच सकता है। इन मौसमी सिस्टमों के मिलने और मानसून टर्फ की हलचल के कारण इस क्षेत्र में बरसात की गतिविधियां होने के आसार है। हालांकि इन इलाकों में रुक-रुककर हो रही बरसात की तीव्रता में भिन्नता भी देखने को मिल सकती है।

Rain

Advertisement

उत्तरी मैदानी क्षेत्र में मौसमी सिस्टम पहुंचने के लिए लग सकते हैं चार से पांच दिन

मौसम विभाग का मानना है कि इस मौसमी सिस्टम को उत्तरी मैदानी इलाकों में पहुंचने में कम से कम चार से पांच दिन लगेंगे। देश के उत्तरी भागों में पिछले सिस्टमों के कारण वर्तमान में वर्षा हो रही है। वहीं एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र अभी भी दिल्ली पर बना हुआ है। इस प्रकार, वर्तमान मौसमी सिस्टम को मानसून टर्फ और चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र के साथ मिलकर काम करने में लगभग चार दिन लग सकते हैं। जिसके परिणामस्वरूप मानसून की बरसात जारी रहेगी। बारिश की यह गतिविधियां पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान के उत्तरी और पूर्वी हिस्सों में जारी रह सकती हैं। इसके साथ ही उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों जैसे उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में भी बारिश की गतिविधियां दिख सकती हैं।

Rain

मानसून की दस्तक के बाद अब तक प्रदेश में सामान्य से 24 फीसद अधिक बरसात

मौसम विभाग के मुताबिक मानसून की दस्तक से लेकर अब तक प्रदेशभर में सामान्य से 24 फीसदी अधिक बरसात हुई है। प्रदेश में अब तक 189.4 एमएम बरसात होनी चाहिए थी, जोकि अब तक 235.4 एमएम बरसात हो चुकी है। अंबाला, भिवानी, फरीदाबाद व पंचकूला में हालांकि सामान्य से कम बरसात दर्ज की गई है, जबकि अन्य जिलों में बरसात सामान्य से अधिक हुई है।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *