Connect with us

विशेष

संक्रमितों के लिए रामबाण बना यह झूठ, दस दिन में पूरे परिवार ने जीत ली कोरोना से जंग

Published

on

Advertisement

संक्रमितों के लिए रामबाण बना यह झूठ, दस दिन में पूरे परिवार ने जीत ली कोरोना से जंग

कोरोना महामारी के बीच उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यूं तो कहा जाता है कि झूठ बोलना गलत बात है लेकिन यहां एक ऐसा झूठ सामने आया है जो कोरोना संक्रमित परिवार के लिए संजीवनी बन गई। इस झूठ से मिली ताकत से पूरे परिवार ने 10 दिन में ही कोरोना को मात दे दिया। आगे की स्लाइडेस में पढ़िए पूरा मामला…

कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Advertisement

जानकारी के मुताबिक, बरगदवा विकास नगर के रहने वाले देवांश के माता-पिता और बड़े भाई में कोरोना के लक्षण दिखे तो उन्होंने नौ अप्रैल को एंटीजन टेस्ट कराकर सभी को घर भेज दिया और उसकी रिपोर्ट खुद रख ली। तीनो पॉजिटिव थे। देवांश ने घर पहुंचने से पहले चिकित्सक से संपर्क कर तीनों के लिए दवाइयों के पैकेट बनवा लिए।

कोरोना वायरस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Advertisement

देवांश घर पहुंचा तो मुस्कुराते हुए बोला, सभी की रिपोर्ट निगेटिव है। घबराने की कोई बात नहीं है। लेकिन कहीं संक्रमण हो न जाए इसलिए एहतिहातन डॉक्टर ने ये दवाइयां दी है जिसे नियमित रूप से खाना है। साथ ही सभी को कम से कम 10 दिन आईसोलेट भी रहना है। किसी से मिलने-जुलने की जरूरत नहीं है। सुबह शाम भाप लेना है और गर्म पानी पीना है। यह सारी बातें बताकर देवांश खुद दूसरे कमरे में आइसोलेट हो गया। हालांकि देवांश की रिपोर्ट निगेटिव थी।

covid19

Advertisement

देवांश ने बताया कि उसके माता-पिता कोरोना का नाम सुनते ही कांप जाते थे। उनके अंदर इस बीमारी को लेकर काफी दहशत है। ऐसे में मैंने उनसे उनकी रिपोर्ट छिपा दी। अगर बता देता तो सभी मानसिक रूप से बीमार हो जाते। झूठ बोलने का नतीजा रहा कि सभी आइसोलेशन में आराम से रह रहे थे। कुछ लक्षण जरूर थे लेकिन उससे उन्हें कोई खास तकलीफ नहीं हुई। नतीजा रहा कि महज 10 दिन के अंदर निगेटिव हो गए और आज पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

कोरोना वायरस

देवांश ने बताया कि 18 अप्रैल को दोबारा जांच में तीनों निगेटिव आ गए। जब रिपोर्ट निगेटिव आ गई तो बड़े भाई को सच्चाई बता दी।

प्रतीकात्मक तस्वीर

पहले तो वह चौंके लेकिन कुछ देर बार ठहाके मार के हंसने लगे। उन्होंने कहा कि एक झूठ ने कोरोना को हराया और एक सच ने चेहरे पर मुस्कान ला दी।

Source : Amar Ujala

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *