Connect with us

पानीपत

एसपी पानीपत की रिपोर्ट ने नाखुश गृहमंत्री ने एसपी करनाल को सौंपी जांच, 2 दिन में मांगी रिपोर्ट

Published

on

एसपी पानीपत की रिपोर्ट ने नाखुश गृहमंत्री ने एसपी करनाल को सौंपी जांच, 2 दिन में मांगी रिपोर्ट

 

पानीपत के बंझौल में तीन बच्चों की मौत के मामले में गुरुवार को पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज का मामला हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज तक पहुंच गया है। विज ने शुक्रवार को इस पर संज्ञान लेते हुए तुरंत एसपी पानीपत को मामले की रिपोर्ट सौंपने को कहा। इसके कुछ देर बाद पानीपत के डीएसपी खुद रिपोर्ट लेकर विज के आवास पर पहुंचे। विज पानीपत पुलिस द्वारा सौंपी गई रिपोर्ट से नाखुश दिखे और जांच करनाल एसपी को सौंप दी विज ने करनाल के एसपी को दो दिन में रिपोर्ट सौंपने को कहा है और इस मामले में दोषी पाए गए किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।

पानीपत पुलिस द्वारा भेजी गई रिपोर्ट को देखते हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज।

 

यह था पूरा मामला
7 जुलाई को पानीपत के बिंझौल गांव के 10 वर्षीय कुल 9 वर्षीय वरुण और 8 वर्षीय लक्ष्य पतंग के लिए गांव से डोरियां लेने डाई हाउस गए थे। आरोप है कि जब वह पतंग के लिए दरवाजा खोज रहा था तो मरो घर के मैनेजर ने उसे देख लिया। इसके बाद उसने बच्चों की हत्या कर दी और उन्हें मरो घर के पीछे बहते माइनर में फेंक दिया। आठ जुलाई को तीनों के शव माइनर में मिले थे।

भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का भी सहारा लिया।
इसको लेकर गुरुवार 30 जुलाई को पीड़ित अपने कश्यप समुदाय के लोगों के साथ सुबह ट्रैक्टर-ट्राली से लघु सचिवालय के सामने विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे थे। उनकी मांग थी कि आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए। नाराज लोगों ने जीटी रोड पर दोनों तरफ जाम लगा दिया। पहले पुलिस अधिकारियों और फिर एसडीएम को समझाया। डीएसपी संदीप के वाहन को घेरने पर पुलिस ने रोक लिया। पुलिस ने प्रहार करने के बाद लाठी-डंडे घुसा दिए। पुलिस ने समाज के नेताओं को कार में डालने के बाद दबोच लिया। उग्र लोगों ने पुलिस पर पत्थर फेंके।

मिनी सचिवालय से लेकर लालबत्ती तक पुलिस ने बल प्रयोग कर प्रदर्शनकारियों का पीछा किया। राहगीरों पर भी लाठी गुजरी। इससे मृत बच्चे की मां सुनीता, अरुण, पिता बिजेंद्र, दादा इंद्रसिंह, दादी नीलम, मृतक बच्चे की मां लक्ष्य शकुंतला, नानी रोशनी, मृतक बालक वंश सोना की दादी अनिल, अनीता, अशोक, खुशीराम, नारायणा के रणधीर, भादर के ओमप्रकाश सहित करीब 50 लोग घायल हो गए। सीआईए-वन के प्रभारी राजपाल, सीआईए-2 के हवलदार प्रमोद, सदर थाने के हवलदार संदीप सहित 10 पुलिसकर्मियों को मामूली चोटें आईं।