Connect with us

City

CM मनोहर लाल के खिलाफ कोर्ट पहुंचा वकील

Published

on

Advertisement

SC और HC में मेल भेजकर मुख्यमंत्री के भाषण को बताया भड़काऊ और असंवैधानिक, DGP से भी केस दर्ज करने की मांग

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के बयान से खफा एक वकील उनके खिलाफ कोर्ट पहुंच गया। वकील ने सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में ईमेल भेजकर बताया कि मुख्यमंत्री का भाषण भड़काऊ, असंवैधानिक और अवैध है। इसीलिए उनके खिलाफ केस दर्ज करके जांच की जाए। साथ ही DGP से भी केस दर्ज करने की मांग की है।

चंडीगढ़ में वकालत करने वाले अधिवक्ता संदीप कुमार गोयत ने बताया कि 3 अक्टूबर 2021 को CM मनोहर लाल ने अपने आवास पर एक बैठक के दौरान बयान दिया था। जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें उन्होंने कहा था कि विशेष रूप से उत्तरी हरियाणा और पश्चिमी हरियाणा के क्षेत्र में 500 से 1000 लोगों का समूह बनाना चाहिए और डंडे के इस्तेमाल से आंदोलनकारियों को जैसे का तैसा जवाब देना चाहिए। इस तरह के बयान राज्य की शांति और सद्भाव के लिए और किसानों के शांतिपूर्ण विरोध के लिए बेहद खतरनाक है। इसमें भाजपा के कैडर के लिए अप्रत्यक्ष रूप से यह कहकर उकसाने की ताकत है कि किसानों के खिलाफ हिंसा का इस्तेमाल करें।

Advertisement



किसानों की छवि खराब करने का इरादा
उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे किसानों को भड़काने के इरादे से इस तरह का बयान दिया जा सकता है। ताकि दिल्ली की सीमा खोलने के संबंध में लंबित कार्यवाही में माननीय न्यायालय के समक्ष उनकी छवि खराब हो सके। मुख्यमंत्री होने के नाते मनोहर लाल को संविधान का पालन करना चाहिए। ऐसा करने के बजाय वे ऐसी भड़काऊ भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, जो पूरी तरह से असंवैधानिक और अवैध है।

Advertisement

Advertisement