Connect with us

कोरोना वायरस

Lockdown: इस गांव में नहीं घुस सकेगा कोरोना वायरस, सील कर दी सीमा, न कोई जाएगा न आएगा

Published

on

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग के लिए जनता ने भी साथ देना शुरू कर दिया है। ग्रामीणों ने गांव को सील कर दिया। अब गांव से न कोई आ सकता है और न कोई गांव में जा सकता है। पंचायत करके ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से एकमत होकर फैसला लिया।

 

पानीपत के गांव काबड़ी में प्रवेश का रास्ता बंद कर दिया गया है। फैसला इसलिए लिया गया कि गांव में कोई बाहरी व्यक्ति प्रवेश ना कर सके और ना ही कोई बाहर जा सके। गांव में कर्फ्यू जैसे हालात बने हुए हैं। युवक पोस्टर लगा रहे हैं और उन पर लिखा जा रहा है कि कोई भी इन रास्ते को पार ना करे। सभी लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है।

newimg/25032020/25_03_2020-border_20139437_13350116.jpg

लॉकडाउन का असर, यमुनानगर के मेहर माजरा में ग्रामीणों ने लगाया ठीकरी पहरा

लॉकडाउन का असर अब गांवों तक भी दिखने लगा है। ग्राम पंचायतों ने भी अब अपने स्तर से ठीकरी पहरा लगा दिया है। गांवों में आने या बाहर जाने वाले लोगों को घर पर ही रहने की हिदायत दी जा रही है। मेहर माजरा गांव में भी सरपंच जसबीर ङ्क्षसह, समाजसेवी रमेश चंद्र व पंच मांगेराम ने गांव में आने वाले लोगों को बाहर ही रोक दिया। इसी तरह से यदि कोई गांव से बाहर जा रहा है, तो उसे भी वापस भेजा गया। सरपंच जसबीर का कहना है कि इस समय कोरोना वायरस की वजह से सरकार ने लॉकडाउन किया हुआ है। इसका सभी लोगों को पालन करना चाहिए, तभी कोरोना वायरस से बचा जा सकेगा। इस समय पूरा देश लॉकडाउन है। ऐसे में ग्रामीणों को भी यही समझाया जा रहा है कि घरों से बाहर न निकले।

प्रशासन भी कर रहा अपील  

डीसी मुकुल कुमार ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से कोई भी पब्लिक ट्रांसपोर्ट, टैक्सी व ऑटो रिक्शा के चलने की अनुमति नहीं है। सभी निजी, कॉरपोरेट प्रतिष्ठानों और कारखानों को भी पूर्णतया बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। जिले के सभी स्थानीय बाजार, साप्ताहिक बाजार, शॉपिंग मॉल बंद रहेंगे। केवल आवश्यक वस्तुओं को प्रदान करने वाली सेवाओं को संचालित करने की ही अनुमति दी जाएगी, लेकिन सामाजिक दूरी के लिए सावधानी बरतनी आवश्यक रहेगी। लोगों की लॉकडाउन में घर पर रहना चाहिए। उन्हें किसी भी तरह से परेशानी नहीं आने दी जाएगी। मेडिकल स्टोर, सब्जी व किरयाना की दुकान खुली रहेगी। कोई भी बेवजह भंडारण न करें। साथ ही किसी भी तरह की अफवाह न फैलाएं।

रेडक्रॉस और गीता स्कूल के पूर्व छात्रों ने रोटी बैंक की मदद से जरूरतमंदों को खाना पहुंचना शुरू किया।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *