Connect with us

पानीपत

जरा सी बात पर ढाबे में तोड़फोड़ कर लूट लिए 40 हजार, मालिक ने भागकर बचाई जान

Published

on

जरा सी बात पर ढाबे में तोड़फोड़ कर लूट लिए 40 हजार, मालिक ने भागकर बचाई जान

 

शराब न पीने देने व खाना न देने से खफा युवक ने दस साथियों के साथ मिलकर सिवाह स्थित रसोई ढाबे में आधे घंटे तक तोड़फोड़ कर 40 हजार रुपये और डीवीआर लूट ली। ढाबा मालिक व उनके भाई ने भागकर जान बचाई। पीड़ित ने 100 नंबर, थाना प्रभारी सहित अन्य पुलिसकर्मियों को 50 से ज्यादा काल की। पुलिस 3.30 घंटे बाद मौके पर पहुंची और आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय पीड़ित पर ही समझौते के लिए दबाव डाला गया।

शराब न पीने देने पर ढाबे में लूट।

घटना शुक्रवार रात 12 बजे की है। सिवाह गांव के रजनीश कादियान ने जागरण को बताया कि उसने तीन साल से चाचा वेदप्रकाश के साथ मिलकर रसोई ढाबा खोल रखा है। गत रात्रि गांव का नवीन उर्फ बच्ची पांच साथियों के साथ ढाबे पर नशे में आया और खाना आर्डर करते हुए गाली-गलौज कर शराब पीने लगा। उन्होंने शराब पीने व खाने देने से मना कर दिया। आरोपित वहां से गाली देकर चला गया। 30 मिनट बाद आरोपित अपने 8-10 साथियों के साथ दो गाड़ियों से आया। उनके हाथ में पिस्तौल, गंडासी और कुल्हाड़ी थी। वह और उसका भाई नीरज जान बचाकर खेतों की तरफ भाग गए। आरोपितों ने तीन फ्रीज, टेबल, एलसीडी, कुर्सी, हाल के शीशे व अन्य सामान तोड़ दिया। ढाबे के कर्मियों ने इधर-उधर छिपकर जान बचाई। आरोपित कर्मियों को धमकी दे गए कि ढाबा मालिक को गोली मार देंगे। आरोपित गल्ले से 40 हजार रुपये लूट ले गए।

 

पुलिस ने कहा, समझौता कर लो

उसने 100 नंबर और थाना प्रभारी के मोबाइल पर लगातार काल की। 3.30 घंटे बाद पीसीआर आई और पुलिसकर्मी बोला कि टूटे हुए सामान को समेट ले। गांव का ही मामला है। समझौता कर लें तो ठीक रहेगा। इसके बाद वे थाने गया और 3.20 बजे शिकायत दर्ज कराई। शनिवार सुबह 10:30 बजे

 

बदमाशी का है शौक, पहले भी मामला दर्ज है

पीड़ित रजनीश ने आरोप लगाया कि आरोपित नवीन आपराधिक प्रवृति का है। उसके खिलाफ पहले भी मारपीट का मामले दर्ज है। आरोपित को बदमाशी का शौक है। वे गांव में युवाओं को कहता फिरता है कि एक-दो मामले दर्ज हो जाएंगे तभी भी कोई चिंता नहीं है।

 

Source : Jagran