Connect with us

City

Looteri Dulhan: पानीपत में लुटेरी दुल्हन लाखों की नकदी और जेवर लेकर फरार

Published

on

Advertisement

Looteri Dulhan: पानीपत में लुटेरी दुल्हन लाखों की नकदी और जेवर लेकर फरार, डेढ़ महिने पहले हुई थी ढाबा मालिक से शादी

पानीपत में शादी के सवा महीने बाद दुल्हन डाहर गांव के ढाबा व्यवसायी के घर से पांच लाख व पांच तोले सोने के जेवर लेकर फरार हो गई। ठग दुल्हन पहले से शादीशुदा है। एक बच्चे की मां है। इस गैंग में पीड़ित का जीजा, दो अन्य व्यक्ति और चार महिलाएं भी शामिल हैं। पीड़ित को आरोपित के जीजा व अन्य लोगों ने डराया कि रुपये वापस मांगे तो दुष्कर्म व दहेज के केस में फंसा देंगे। पीड़ित ने 11 महीने तक सुबूत जुटाए और अब इसराना थाने में मामला दर्ज कराया है।
पानीपत में लाखों लेकर फरार हुई ढाबा मालिक की दुल्हन।

पुलिस को दी शिकायत के अनुसार
डाहर गांव के 33 वर्षीय सुरेंद्र नांदल का शाहपुर गांव में ढाबा है। सुरेंद्र ने पुलिस को शिकायत दी कि चचेरी बहन के पति सोनीपत के बजाना गांव के सुरेश कादियान ने शादी करवाने की बात कहकर उन्हें रोहतक के घिलौड़ गांव के सतीश से मिलवाया। इसके बाद सतीश उन्हें करनाल की संतरेस के पास से ले गया। संतरेस ने पंजाब के बरनाला की गीता व सरबजीत कौर और रणबीर राणा से बात करके 15000 रुपये लेकर उसकी 23 अक्टूबर 2020 में बरनाला में 23 वर्षीय पूजा नामक युवती से मंदिर में शादी करा दी। 12 दिसंबर 2020 को वह ढाबे पर चला गया। उनकी मां रोशनी फौजी भाई अनिल के पास श्रीनगर चली गई। तभी पीछे से पूजा, रणबीर राणा और उसकी पत्नी घर में रखे पांच लाख रुपये व पांच तोले के सोने के जेवर चोरी करके फरार हो गए।
उन्होंने रणबीर राणा को काल कर रुपये वापस देने व पूजा को घर भेजने को बोला। रणबीर ने कहा कि उन्होंने रुपयों की जरूरत थी। पूजा को कुछ दिन बाद भेज देंगे। इसके बाद आरोपित ने काल रिसीव करना बंद कर दिया। उन्होंने अपने जीजा सुरेश कादियान से रुपये दिलाने को बोला। जीजा ने डराया कि आरोपित उसे दुष्कर्म व दहेज के केस में फंसा देंगे। पीड़ित सुरेंद्र का आरोप है कि गैंग के लोग उन युवकों को ढूंढते हैं, जिसका शादी नहीं हो रही है। इसके बाद पूजा से शादी करा देते हैं। एक-डेढ़ महीने बाद घर पर जब कोई नहीं होता है तो पूजा अन्य आरोपितों के साथ मिलकर नकदी व जेवर चुराकर भाग जाती है।

Advertisement

ढाबे का किराया देने के लिए घर रखे थे रुपये
सुरेंद्र ने बताया कि पहले उनका डाहर गोल चक्कर के पास ढाबा था। एग्रीमेंट के तहत एक साल के ढाबा मालिक को पांच लाख रुपये देने थे। उसने 2.70 लाख रुपये की कमेटी छुड़ाई थी। इसके अलावा डेढ लाख रुपये के सफेदे बेचे थे। बाकि दोस्तों से रुपये उधार लेकर कुल पांच लाख रुपये घर रखे थे। 21 दिसंबर 2020 को रुपये ढाबा मालिक को देने थे। इससे पहले ही रुपये चोरी कर लिए गए।

डेढ़ लाख रुपये खर्च कर सुबूत जुटाए, आरोपित राणा गिरफ्तार
सुरेंद्र ने बताया कि उसको दो भा फौज में भर्ती है। भाइयों ने हौसला दिया तो वह पंजाब के बरनाला, संगरूर, तरणतारन सहित कई और कस्बों में 100 से ज्यादा बार घूमा। इस पर उसके डेढ़ लाख रुपये खर्च हो गए। तब पता चला कि पूजा पहले से शादीशुदा है और उसका एक बेटा है। पूजा मुस्लिम समुदाय है। उसने नाम भी बदल रखा है। उसे पता चला कि आरोपित रणबीर राणा को पटियाला पुलिस ने फर्जी तरीके से शादी कराने के मामले में गिरफ्तार कर रखा है।

Advertisement
Advertisement