Connect with us

पानीपत

हरियाणा में बाज़ारों में जूते कपड़ों की कमी, किसान आंदोलन से दिल्ली से नहीं आ रहा माल

Published

on

Advertisement

हरियाणा में बाज़ारों में जूते कपड़ों की कमी, किसान आंदोलन से दिल्ली से नहीं आ रहा माल

 

किसान आंदाेलन के चलते बाजार में व्यापार लाॅकडाउन हाे गया है। बाजार में 72 रुपए में बिकने वाली ब्रांडेड लिपस्टिक का रेट बढ़कर 120 रुपए प्रति दर्ज तक हाे गया है। इसके अलावा बाजार में महिलाओं व बच्चाें के स्टैंडर्ड साइज शूज की भारी कमी हाे गई है। ग्राहकाें के लिए गर्म कपड़े, जूते व कॉस्मेटिक सामान खरीदने की ज्यादा चॉइस नहीं है।

Advertisement

शहर के प्रमुख 50 बाजाराें में शाेरूम व छाेटी-बड़ी 10,000 दुकान चला रहे दुकानदारों के लिए ग्राहकाें काे लुभाना इस समय आसान नहीं है। बाजाराें में सबसे ज्यादा गर्म जैकेट, लेडीज सामान व बच्चाें के जूते व कपड़ाें की भारी कमी हाे गई है। पानीपत मंडी में ज्यादातर सामान दिल्ली की मंडियाें से ही आता है। दिल्ली मंडी के ब्राेकर पानीपत काराेबरियाेें के ऑर्डर ताे ले रहे हैं, लेकिन ट्रांसपोर्टरों के लिए सामान पहुंचाना चैलेंज है।

Advertisement

72 रुपए वाली ब्रांडेड लिपस्टिक बिक रही 120 रुपए में

कॉस्टमेटिक सामान की बाजार में भारी कमी है। एक माह पहले 72 रुपए में बिकने वाली ब्रांडेड लिपस्टिक अब 120 रुपए में बिक रही है। ऐसे ही 60 रुपए से बिकने वाली चूड़ियां अब 108 रुपए दर्जन बिक रही हैं। इनमें भी जयपुरी व फैंसी चूड़ियां नहीं मिल रही हैं। साेमनाथ, दुकानदार, 8 मरला चाैक।

Advertisement

महिलाओं के 4 से 8, बच्चाें के 11 से 5 नंबर के जूताेें का अभाव

शहर में शूज के 45 रिटेलर व 300 से ज्यादा दुकानदार हैं। ज्यादातर के पास महिलाओं के 4 से 8 नंबर और बच्चाें के 11 से 5 नंबर साइज वाले जूताेें का अभाव है। इनके अलावा महिलाओं की जूतियां व स्पाेर्ट्स शूज दुकानाें पर नहीं मिल रहे। दिल्ली व आगरा से ही ज्यादातर माल आता है। सुलेख जैन, शूज हाेल सेलर।

जेंट्स डबल एक्सएल जैकेट व बच्चाें के कपड़ाें की भारी कमी

सबसे ज्यादा बाजाराें में रेडिमेड काराेबार प्रभावित हुआ है। दुकानाें पर ग्राहकाें के लिए जेंट्स डबल एक्सएल जैकेट व बच्चाें के कपड़ाें की चॉइस नाममात्र ही है। कई ग्राहक काे मायूस हाेकर लाैट रहे हैं। बच्चाें की कैप व जुराब सिर्फ स्टाॅक वाली ही मिल रही हैं। दिल्ली मंडी से काेई सामान नहीं आ रहा। जेम्स गाबा, दुकानदार, मुख्य बाजार।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *