Connect with us

City

रंग-गुलाल से गुलजार हुए बाजार, पिचकारी, गुजिया और मेवे से सजी दुकानें

Published

on

रंग-गुलाल से गुलजार हुए बाजार, पिचकारी, गुजिया और मेवे से सजी दुकानें

होली में फिलहाल होलाष्टक के कारण शुभ कार्यों पर ब्रेक लगा है लेकिन रंग-गुलाल से बाजार गुलजार दिखाई देने लगे हैं। होली से एक सप्ताह पहले ही बाजार सजने लगे थे और पिचकारियों में दिलचस्पी आम देखने को मिल रही है। बाजार में रंग-बिरंगे गुलाल और पिचकारी के अलावा गुजिया व मेवे से दुकानें सजी हैं।

होली का दिन नजदीक आने के साथ-साथ कर्ण गेट मार्केट, नेहरू मार्केट में सजी दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ भी बढ़ने लगी है। इस बार बाजार में अलग-अलग तरह की पिचकारी, गुब्बारे और अन्य आकर्षक आइटम आए हैं। प्रेशर वाली पिचकारी 100 रुपये से 350 रुपये, टैंक के रूप में पिचकारी 100 से 400 रुपये तक, स्पाइडर मैन, छोटा भीम सहित अलग-अलग मुखौटों को बच्चे खूब पसंद कर रहे हैं। 17 मार्च को होलिका दहन से त्योहार की शुरुआत होगी। बच्चों और युवाओं में खासा जोश है।

Holi 2022: रंग-गुलाल से गुलजार हुए बाजार, पिचकारी, गुजिया और मेवे से सजी दुकानें

पिछले वर्षों के मुकाबले खरीददारी में तेजी की उम्मीद

गुलाल, रंग और पिचकारी के विक्रेता जगदीश गोयल ने बताया कि कोरोना के कारण दो साल से त्योहार में मंदी थी। महामारी के पहले वर्ष कारोबार नुकसान पर था। दूसरे वर्ष कुछ ढील मिलने पर बाजार सजाए गए लेकिन ग्राहकों ने खरीददारी ही नहीं की। इस होली में कारोबार अच्छा होने की उम्मीद है। होली के दस दिन पहले ही सजी दुकानों पर बच्चों के साथ माता-पिता खरीददारी में दिलचस्पी दिखा रहे हैं। गर्मी के साथ बाजार में रौनक भी बढ़ी है।

पुलिस प्रशासन भी तैयारियों में जुटा

होली पर हुड़दंगबाजी पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस ने भी तैयारियां शुरू कर दी हैं। यातायात नियमों की अनदेखी और बुलेट पटाखे बजाने वाले युवाओं को कानून का पाठ पढ़ाने के लिए स्टाफ को सतर्क किया है। शहर और कस्बों में पुलिस कर्मचारी नियम अपनाने की वाहन चालकों से अपील कर रहे हैं। पुलिस अधीक्षक गंगाराम पूनिया के अनुसार होली शांतिपूर्ण तरीके से मनाने के लिए सतर्कता के आदेश दिए गए हैं। नियमों को तोड़ने वाले को किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। नशे पर लगाम कसने के लिए अलग टीमें तैनात की गई हैं।

शहर से गांवों तक होलिका दहन की तैयारी

होलिका दहन के लिए एक दिन बचा है। नगर से लेकर ग्रामीणांचल तक के गली-चौराहे पर जगह-जगह होलिका सजा दी गई हैं। युवाओं ने पूरे उत्साह के साथ होली की तैयारी की है। कहीं पर बैंड-बाजे का प्रबंध किया गया है तो कहीं पर अन्य व्यवस्था के साथ होलिका दहन करने की तैयारी चल रही है। हालांकि इस बार होलिका दहन के लिए लकड़ियों का ढेर कम ही देखने को मिल रहा है। शहर में सदर बाजार में भी होलिका दहन की तैयारी की गई।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.