Connect with us

विशेष

मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा – ‘हमारे ऊपर भरोसा कीजिए, कोर्ट के हस्तक्षेप की कोई जरूरत नहीं’

Published

on

Advertisement

मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा – ‘हमारे ऊपर भरोसा कीजिए, कोर्ट के हस्तक्षेप की कोई जरूरत नहीं’

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने रविवार (09 मई) को सुप्रीम कोर्ट में वैक्सीनेशन पॉलिसी को लेकर हलफनामा दायर कर जवाब दिया है। इस हलफनामे में केंद्र सरकार ने वैक्सीन पॉलिसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट को कहा कि आप हमारे ऊपर विश्वास कीजिए, इस मामले में कोर्ट के दखल की कोई जरूरत नहीं है।

Coronavirus vaccine

Advertisement

 

हमने देश में टीकाकरण अभियान के लिए बहुत ज्यादा सोच-समझकर वैक्सीनेशन पॉलिसी बनाई है। वैक्सीनेशन नीति का बचाव करते हुए केंद्र ने कहा कि इन मामलों में कोर्ट के हस्तक्षेप की कोई जरूरत नहीं है। केंद्र ने कहा कि महामारी अपने चरम पर है, ऐसे में सभी को एक-साथ वैक्सीनेट नहीं किया जा सकता है, हमारे पास वैक्सीन की सीमित उपलब्धता है। लेकिन फिर भी हमारी नीति है कि देश के सभी नागरिकों को वैक्सीन समान रूप से मिले। सबको समान रूप से वैक्सीनेट कैसे किया जाए, इसकी कीमत क्या होगी…इन सब बातों पर गहन चिंतन-विचार के बाद ही हमने ये वैक्सीनेशन पॉलिसी बनाई है। यह नीति न्यायसंगत है, हमने किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया है और नाही करेंगे। केंद्र ने कहा, वैक्सीन पॉलिसी में माननीय कोर्ट द्वारा हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं है, वो भी उस वक्त जब हम महामारी से जूझ रहे हैं। 50 प्रतिशत वैक्सीन की खरीद खुद करने की नीति के बारे में हमने सोच-समझकर फैसला लिया है।

Advertisement

 

30 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को कहा था कि वह अपने वैक्सीन नीति के बारे में दोबारा विचार करें। सुप्रीम कोर्ट ने पूछा था कि केंद्र सरकार वैक्सीन की 100 प्रतिशत डोज खुद क्यों नहीं खरीद रही है। केंद्र ने हलफनामे में कहा कि 18 से 44 आयु वर्ग के लोगों के लिए राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों द्वारा वैक्सीन खरीदना सही। 45 से अधिक के लोगों के लिए हम पहले की ही तरह आपूर्ति कर रहे हैं। केंद्र ने कहा कि वैक्सीन निर्माता कंपनियों को हमने वैक्सीन बनाने में कोई आर्थिक मदद नहीं की है।

Advertisement

 

वैक्सीन में काफी ज्यादा पैसा लगाकर उन्होंने एक तरह का रिस्क लिया है, ऐसे में वैक्सीन अगर राज्य सरकार और प्राइवेट संस्थान खरीदेगी तो वैक्सीन निर्माता कंपनियों को ज्यादा प्रोड्क्शन करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा। ये भी पढ़ें- केंद्र सरकार को सस्ती और राज्यों को महंगी क्यों मिल रही है कोरोना वैक्सीन? मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया केंद्र ने कहा, सभी राज्यों ने अपने नागरिकों को फ्री में वैक्सीन देने की घोषणा की है। इसलिए अगर केंद्र सरकार 100 प्रतिशत वैक्सीन खरीद कर राज्यों को न देने से आम जनता को कोई नुकसान नहीं होगा।

SOURCE ONE INDIA

 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *