Connect with us

City

दिवाली की धूम में हैंडलूम वालों पर बरसेगी धन वर्षा, पानीपत कमाएगा 4000 करोड़

Published

on

Advertisement

दिवाली की धूम में हैंडलूम वालों पर बरसेगी धन वर्षा, पानीपत कमाएगा 4000 करोड़

कच्चे माल की कीमत में 150% बढ़ोतरी से मिंक, पोलर और 3डी प्लांट का प्रॉडक्शन आधा हो गया है। इससे प्लांट मालिक परेशान हैं, लेकिन दूसरी तरफ हैंडलूम प्रॉडक्ट के दाम महंगे हो गए हैं। पिछले 15 दिनों में ही कंबल के दाम 16 फीसदी तक बढ़ गए हैं। वहीं, पोलर अब महंगे मिंक के बराबर बिकने लगा है।

Advertisement

दिवाली तक उम्मीद की जा रही है कि 4000 करोड़ का कारोबार होगा। प्रॉडक्शन कम होने से स्टॉकिस्ट माल को महंगा बेच रहे हैं। लेकिन, प्लांट मालिक से लेकर कारोबारी सब परेशान हैं। कच्चा माल महंगा होने और डिमांड कम होने से प्रॉडक्शन कम हो गया।

वहीं, कारोबारियों में भय है कि आगे चलकर कच्चा माल सस्ता न हो जाए। इसलिए वह माल नहीं उठा रहे हैं। एक्सपोर्टर रमण छाबड़ा ने कहा कि कंटेनर 300 फीसदी तक महंगे हो गए हैं। इस कारण से बायर ने माल रोक रखा है। बायर कहता है कि अभी इंतजार कर लो। करीब 30 फीसदी माल अटका हुआ है।

Advertisement

इधर, एसोसिएशन ने भट्‌ठे चलाने पर भी लगाई रोक

भट्‌ठा मालिक अतुल गुप्ता ने कहा कि कोयला महंगा होने से भट्‌ठा एसोसिएशन ने फैसला लिया है कि एनसीआर से बाहर भी फरवरी तक कोई भी भट्‌ठे नहीं चलेंगे। भट्‌ठे बंद होने से मालिक परेशान हैं। हालांकि, आने वाले दिनों में ईंट और महंगी हो सकती हैं।

Advertisement

4 पाॅइंटस से जानिए, बाजारों का हाल, क्या रहेंगी आगे की संभावनाएं

  • सेल कम क्यों

1. तीसरी लहर की संभावनाओं के कारण नहीं आए कारोबारी : चौड़ा बाजार के प्रधान व कंबल कारोबारी सुरेश बवेजा ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर की संभावनाओं के कारण कारोबारी नहीं आए। दिवाली के 25 दिन बचे हैं। जो पहले 100 गांठ माल ले जाते थे, अब वे फोन पर 10 गांठ मंगा रहे हैं। इसलिए सेल कम है।

2. महंगे दाम पर माल खरीदने से बच रहे कारोबारी: गणेश नगर के हैंडलूम कारोबारी अमन शर्मा ने कहा कि कच्चे माल के कारण हैंडलूम के सभी प्रॉडक्ट महंगे हो गए हैं। 155 रुपए किलो वाला कंबल 200 में बिक रहा है। इसलिए, कारोबारी जोखिम लेकर माल नहीं खरीदना चाहते।

  • सेल कम, तो महंगे क्यों?

1. प्लांट मालिकों ने कम किया प्रॉडक्शन डायर्स एसोसिएशन के प्रधान भीम सिंह राणा ने कहा कि रॉ मटेरियल 152% तक महंगे हो गए हैं। 6500 रुपए टन वाला कोयला 16,400 रुपए टन पहुंच गया है। केमिकल-कलर, एसिटिक एसिड सहित सभी रॉ-मटेरियल महंगे हो गए हैं। सेल है नहीं, इसलिए प्रॉडक्शन आधा कर दिया है।

2. माल निकालने का प्रयास: गोहाना रोड स्थित मित्तल होम फर्निशिंग के मालिक विक्की मित्तल ने कहा कि स्टॉकिस्ट के पास माल जमा है, क्योंकि पीछे सेल नहीं हुई। उत्पादन होगा तो स्टॉकिस्ट का माल कैसे बिकेगा। इसलिए स्टॉकिस्ट का माल निकालने का प्रयास है।

 

Advertisement