Connect with us

City

28 गोशालाओं में 21 हजार से ज्यादा गोवंश, एक गोशाला के सहारे नगर निगम

Published

on

Advertisement

28 गोशालाओं में 21 हजार से ज्यादा गोवंश, एक गोशाला के सहारे नगर निगम

नगर निगम ने बेसहारा गोवंश को पकड़ने का अभियान चलाया हुआ है। सभी को नैन गोशाला में भेजा जाएगा। पिछले साल भी बेसहारा पशुओं को नैन गोशाला भेजा गया था। वैसे, जिलाभर में 28 गोशालाएं हैं। गोहाना रोड स्थित गोशाला में साढ़े तीन हजार से ज्यादा गोवंश हैं।

नगर निगम ने सभी गोशालाओं के प्रबंधकों से इमरजेंसी में सहयोगी की अपील की है। सवाल यह उठता है कि अगर नैन गोशाला में क्षमता के अनुसार गोवंश की संख्या पूरी हो गई तो बाकी बचे गोवंश को कहा छोडे़ंगे। फिलहाल जिलाभर की गोशालाओं में 21 हजार 114 गोवंश को रखा गया है। गोशालाओं में क्षमता के अनुसार हैं गोवंश हैं। इससे नगर निगम को आने वाले समय में काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। नगर निगम एक ही गोशाला पर निर्भर

Advertisement

28 गोशालाओं में 21 हजार से ज्यादा गोवंश, एक गोशाला के सहारे नगर निगम

नगर निगम शहर को बेसहारा पुशओं से मुक्त करने के लिए एक ही नैन गोशाला पर निर्भर है। इस गोशाला की क्षमता पांच हजार गोवंश रखने की है। अगर पांच हजार से ज्यादा गोवंश हुए तो फिर नगर निगम को दूसरी गोशालाओं का रूख करना पड़ेगा। गोशाला का नाम इतने गोवंश

Advertisement

श्री गोशाला सोसाइटी पानीपत 3427

श्री बाबा लठवाला गोशाला नौलथा 1388

Advertisement

शिव गोशाला समिति मतलौडा 2104

नैन गोशाला नैन गांव 1967

लार्ड गोशाला समिति शाहपुर 1829

श्री कृष्ण आदर्श गोशाला समालखा 1950

श्री चतुरभुज गोशाला सनौली 1164

सभी गोशाला में भेजने चाहिए गोवंश

नैन गोशाला के प्रधान राजरूप ने जागरण से बातचीत में कहा कि इस गोशाला में समालखा व पानीपत से गोवंश छोड़े जा रहे हैं। निगम को चाहिए की सभी गोशालाओं का सहयोग ले, तभी शहर की सड़कों से गोवंश को हटाया जा सकता है। नगर निगम की मेयर अवनीत कौर ने जागरण से बातचीत में कहा कि अभी नैन गोशाला में ही बेसहारा पशुओं को छोड़ा जा रहा है। अगर दूसरी गोशालाओं की जरूरत पड़ी तो इस पर विचार किया जाएगा।

Advertisement