Connect with us

पानीपत

पानीपत सिविल अस्पताल में अमानवीय घटना, सर्दी में सड़क पर भटकती रही माँ और 6 घंटे का नवजात

Published

on

Advertisement

पानीपत सिविल अस्पताल में अमानवीय घटना, सर्दी में सड़क पर भटकती रही माँ और 6 घंटे का नवजात

 

सिविल अस्पताल में 6 घंटे तक एक महिला डिलीवरी के बाद भी दर्द झेला। छुट्टी हाेने के बाद 6 घंटे तक महिला अपने नवजात काे लेकर एंबुलेंस के लिए घुमती रही, लेकिन 6 घंटे तक उसे काेई एंबुलेंस नहीं मिली। महिला के पिता ने आराेप लगाया कि उसे एंबुलेंस में बैठे कर्मचारी ने कहा कि ये केस इतना जरूरी हैं, पहले एक्सीडेंट वालाें की एंबुलेंस मिलेगी।

Advertisement

कई लाेगाें की सिफारिश व अधिकारियों के पास गए ताे फिर उसे एंबुलेंस मिली। बता दें कि उरलाना कलां की काजल ने रविवार दोपहर काे सिविल अस्पताल में एक बच्ची काे जन्म दिया।

Advertisement

काजल के पिता सुबे सिंह ने बताया कि साेमवार सुबह 10 बजेे घर जाने के लिए छुट्टी मिल गई थी, लेकिन 10 बजे से लेकर 4 बजे तक एंबुलेंस नहीं मिली। उसने कई बार एंबुलेंस केंद्र के चक्कर काटे। सुबे सिंह का आराेप है कि एंबुलेंस केेंद्र में बैठे एक कर्मचारी ने कहा कि ये केस इतना जरूरी नहीं है।

सुबे सिंह ने बताया कि उसने कर्मचारी काे कहा कि एक्सीडेंट केस जरूरी है मानता हूं, लेकिन मेरी बेटी 6 घंटे से एक एंबुलेंस के लिए इधर-उधर भटक रही है क्या वाे जरूरी नहीं है। इसके बाद सुबे सिंह ने विधायक के पीए से अस्पताल के अधिकारियों से बातचीत कराई ताे उन्हें एंबुलेंस मिली।

Advertisement

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि उस समय एक्सीडेंट केस था जिसे रेफर किया था। परिसर में एंबुलेंस नहीं थी, इसलिए महिला काे एंबुलेंस मिलने में देरी हुई। सीएमओ डॉक्टर संतलाल वर्मा ने बताया कि उस समय एंबुलेंस एक एक्सीडेंट को लेकर गई हुई थी।

उसके अलावा 3 एंबुलेंस मरीजों को रोहतक व खानपुर गई हुई थी। एक एंबुलेंस की कोरोना मरीजों को लाने की ड‌्यूटी लगी है। इसलिए महिला को एंबुलेंस मिलने में देरी हुई। बाद में महिला को एंबुलेंस दिलवा दी गई।

 

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *