Connect with us

विशेष

मां ने अपने बेटे से कहा- जा कुछ बड़ा करके दिखा, होनहार बेटा IAS ऑफिसर बनकर लौटा

Published

on

Advertisement

मां ने अपने बेटे से कहा- जा कुछ बड़ा करके दिखा, होनहार बेटा IAS ऑफिसर बनकर लौटा

 

कहते हैं सफल जीवन के लिए आपका जुनूनी होता बेहद जरूरी है. आज हम आपको छत्तीसगढ़ राज्य के एक होनहार युवक के बारे में बता रहे हैं. जिसने संघर्ष कर सफलता की वो सीढ़ी चढ़ी जो उसके लिए आसान नहीं थी. लेकिन जहां चाह वहां राह है कहावत इस युवक के लिए सही साबित हुई.

Advertisement

हम बात कर रहे हैं छत्तीसगढ़ के पहले आईएएस ऑफिसर ओपी चौधरी की. जिसने तमाम संघर्ष और गरीबी झेलकर IAS अफसर बनकर दिखाया. ओपी चौधरी ने 8 साल की उम्र में अपने पिता को खोया और फिर अपनी मां के साथ दर-दर की ठोकरें खाईं.

 

Advertisement

उसने पढ़ाई भी एक ऐसे स्कूल से की जहां छत भी ठीक से बनी नहीं थी. और 12वीं पास के बाद मां ने पिता की अनुकंपा वाली नौकरी लेने से मना कर दिया. और अपने बेटे से कहा- जा कुछ बड़ा कर.

जब वह फर्स्ट ईयर में थे, तो मसूरी में आईएएस की ट्रेनिग देखने गए लेकिन वहां गार्ड ने उन्हें अंदर जाने से मना कर दिया. धक्के देकर बाहर निकाल दिया. उस दिन ही उसने एक सपना पाला एक IAS अधिकारी बनने का. और पहुंच गया अपने सपने लेकर दिल्ली. कभी रेलवे स्टेशन पर सोया तो कभी कब्रिस्तान पर.

Advertisement

लेकिन इस बीच उसने अपनी सबसे बड़ी प्रेरणा अपनी बड़ी दीदी को खो दिया. उसके बाद उसने अपने सपने को पाया जिसके लिए उसने खूब मेहनत की. और छत्तीसगढ़ का पहला IAS अफसर बनकर दिखाया. और साबित कर दिया कि नामुमकिन कुछ नहीं. वह नवयुवकों के लिए एक आदर्श औऱ मिसाल हैं.

 

source- News18

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *