Connect with us

पानीपत

पड़ोसी निकला मूकबधिर बच्ची का रेपिस्ट, मुंह दबाकर रोकी थी बच्ची की चीख, गिरफ्तार

Published

on

Advertisement

पड़ोसी निकला मूकबधिर बच्ची का रेपिस्ट, मुंह दबाकर रोकी थी बच्ची की चीख, गिरफ्तार

 

समालखा में साढ़े 13 साल की मूकबधिर बच्ची के साथ 34 साल के पड़ोसी ने ही दुष्कर्म किया था। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। चार और युवकों पर शक है। जिनके ब्लड सैंपल DNA टेस्ट के लिए भेजे गए हैं। पुलिस शुक्रवार को आरोपी को कोर्ट में पेश करके दो दिन के रिमांड की मांग करेगी।

Advertisement

समालखा थाना क्षेत्र में 3 जनवरी को एक मूकबधिर किशोरी के साथ रेप हुआ था। किशोरी बोल नहीं सकती, लेकिन थोड़ा-बहुत सुन सकती है। किशोरी ने इशारों में अपनी मां को घटना बताई। मां ने खून देखकर बेटी के साथ दरिंदगी होने का आभास हुआ। मां ने पुलिस से शिकायत की।

Advertisement

इस संबंध में शुक्रवार को प्रेसवार्ता में ASP पूजा वशिष्ठ ने बताया कि बच्ची ने इशारों में दो युवकों को आरोपी बताया था। दोनों युवकों से पूछताछ की गई, लेकिन मामला साफ नहीं हुआ। पुलिस जांच के साथ ही किशोरी की स्पेशल इंटरप्रेटर से काउंसिलिंग की जाती रही। पानीपत, करनाल और सोनीपत के इंटरप्रेटर किशोरी की काउंसिलिंग करते रहे। इसके बाद पुलिस ने पीड़िता के आस-पड़ोस से मिसिंग युवकों का पता लगाना शुरू किया। घटना के अगले दिन से ही चार मकान दूर एक युवक मिसिंग मिला। उसके परिजनों से नंबर मांगा तो कहने लगे कि वह फोन ही नहीं रखता। जिससे शक गहरा गया। गुरुवार शाम को आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई तो उसने रेप करना स्वीकार कर लिया। आरोपी का नाम मनदीप है। वह एक बच्चे का पिता है। अब आरोपी को कोर्ट में पेश करके दो दिन का रिमांड मांगा जाएगा।

गैंगरेप भी हो सकता है
ASP ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट से रेप की पुष्टि हो गई थी। अब इस हैवानियत में कितने लोग शामिल हैं, यह स्पष्ट होना बाकी है। परिजनों के शक के आधार पर चार अन्य युवकों के ब्लड का सैंपल DNA जांच के लिए भेजा है, रिपोर्ट आने पर रेप और गैंगरेप का पता लगेगा।

Advertisement

किशोरी की तलाश में शामिल रहा आरोपी का भाई
3 जनवरी को शाम 7 बजे से लापता होने के बाद परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। वह बोल नहीं सकती, लेकिन थोड़ा सुन सकती है। इसलिए परिजन उसे इधर-उधर आवाज लगाते रहे। इस दौरान आरोपी का छोटा भाई भी परिजनों के साथ किशोरी को ढूंढने में लगा रहा। किशोरी सबसे पहले अपनी बुआ को मिली।

100 पुलिसकर्मियों ने 40 घरों में तलाशा मिसिंग
रेप के अधिकतर मामलों में जान-पहचान का ही आरोपी निकलता है। इसलिए पुलिस ने बुनियादी लाइन पर काम करते हुए सबसे पहले पीड़िता के घर के आसपास मिसिंग की तलाश की। इसमें 100 पुलिसकर्मी शामिल रहे। सभी ने डोर टू डोर मिसिंग को खोजा। मनदीप घटना के अगले दिन से ही लापता मिला।

तीन जिलों के काउंसलर से ली मदद
मूकबधिर पीड़िता की बात समझने पर पहले पानीपत और करनाल के इंटरप्रेटर असफल रहे। इसके बाद सोनीपत के प्राइवेट इंटरप्रेटर से संपर्क किया गया। हालांकि करनाल में काउंसिलिंग के बाद किशोरी से रेप की पुष्टि हो गई थी। सोनीपत के इंटरप्रेटर अच्छी से तरह से किशोरी की बात समझ पाया। जिससे चार दिनों में मामला सुलझाने में मदद मिली।

अलाव तापने के बाद दोबारा मिली किशोरी तो की हैवानियत
ASP ने बताया कि पीड़ित किशोरी मोहल्ले के अन्य बच्चों के साथ अलाव ताप रही थी। कुछ बच्चे क्रिकेट भी खेल रहे थे। करीब 7 बजे बाकी बच्चे चले गए और आरोपी व किशोरी अलाव तापते रहे। कुछ देर बाद यह दोनों भी अलग-अलग रास्ते से चले गए, लेकिन फिर दोनों एक प्वाइंट पर मिले। जहां से आरोपी लालच देकर किशोरी को अपने साथ ले गया और हैवानियत की। बच्ची शोर तो नहीं मचा सकती थी। वह चीखी तो आरोपी ने मुंह दबाकर चींखे रोक लीं।

आरोपी तीन महीने पहले ही शिफ्ट हुआ समालखा
​​​​​​​पुलिस ने बताया कि आरोपी मनदीप कार चालक है। वह परिवार समेत पहले दिल्ली रहता था। एक मारपीट के मामले में वह 10 दिन जेल में भी रह चुका है। रेप के बाद आरोपी कोहरे का फायदा उठाकर अपने घर पहुंच गया और आराम से सोया। अगले दिन वह लापता हो गया।…

 

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *