Connect with us

City

अब एडवांस में भरना होगा बिजली बिल

Published

on

Advertisement

अब एडवांस में भरना होगा बिजली बिल! बदलने वाला है आपके घर का बिजली मीटर, जानिए इससे जुड़ी सभी काम की बातें

हरियाणा में प्रीपेड बिजली मीटर लगाने की शुरूआत हो चुकी है। इन्हें स्मार्ट प्रीपेड मीटर का नाम दिया गया है। हरियाणा सरकार ने इस संदर्भ में नोटिफिकेशन जारी कर सभी जिलों को स्मार्ट मीटर लगाने के आदेश जारी कर दिए हैं। इस नोटिफिकेशन में कहा गया है कि जिन राज्यों में बिजली का लॉस ज्यादा है, वहां दिसंबर 2023 तक स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने होंगे।

सीधा सा फंडा यह है कि आने वाले कुछ सालों के भीतर प्रदेश भर में बिजली के प्रीपेड स्मार्ट मीटर हर घर में लगे दिखाई देंगे। इसमें एक बड़ा बदलाव यह है कि जिन राज्यों में बिजली का घाटा अधिक है, वहां उन्हें पहले लगाया जाएगा। बता दें कि हरियाणा में स्मार्ट मीटर तेजी से लगाए जा रहे हैं।

Advertisement

गुरुग्राम, फरीदाबाद, करनाल और पंचकूला के बाद अब हिसार में भी स्मार्ट मीटर लगाने की योजना शुरुआत हो गई है। बता दें पहला स्मार्ट मीटर निगम के एमडी फूलचंद मीणा के क्वार्टर पर लगाया गया है। इसके संचालन के बाद आगे की प्रक्रिया शुरु की गई है। हिसार में पहला स्मार्ट मीटर लगने के बाद अब पूरे सर्कल में जल्द ही इन मीटरों के लगने की प्रक्रिया तेज हो सकती है। इन मीटरों के आने के बाद बिजली की खपत और बिलों को लेकर होने वाली समस्याएं भी खत्म होने की संभावना है।

प्रीपेड स्मार्ट मीटर की यह खासियत होगी कि इसे पहले रिचार्ज करवाना होगा। यानि कि जिस तरह से आप पहले मोबाईल फोन को रिचार्ज करवाते हो और फिर उससे कॉल करते हो, ठीक इसी तरह से प्रीपेड मीटर को पहले रिचार्ज करवाना होगा। इसके बाद ही बिजली की सप्लाई मिल पाएगी। जैसे ही आपके मीटर का बिल प्रीपेड से अधिक होगा तो ऑटो मैटिक बिजली की सप्लाई बंद हो जाएगी। मीटर में पैसे खत्म होते ही घर या दुकान में अपने आप ही अंधेरा छा जाएगा और बिजली की सप्लाई बंद हो जाएगी। हालांकि सप्लाई बंद होने से पहले उपभोक्ता को बिजली निगम से एक अलर्ट मैसेज भी आएगा। इस अलर्ट के तत्काल बाद उपभोक्ता को अपना मीटर रिचार्ज करवाना होगा।

Advertisement

हरियाणा और एनसीआर में रहने वाले लोग अपना प्रीपेड स्मार्ट मीटर का रिचार्ज करवाने के लिए ऑनलाईन और ऑफलाईन तरीके से अपना रिचार्ज करवा सकेंगे। ठीक अपने प्रीपेड मोबाईल की तरह से। वहीं यह भी बता दें कि प्रीपेड स्मार्ट मीटर की कीमत बाकि मीटरों के मुकाबले 4 से 5 गुणा अधिक है। जिसके चलते इस मीटर को लगवाने में लोगों को फिलहाल परेशानी का अनुभव करना पड़ सकता है।

इस क्षेत्र के जानकारों का कहना है कि टेलीकॉम सैक्टर ने पावर सैक्टर को यह रास्ता दिखाया है। टेलीकॉम सैक्टर में प्रीपेड योजना सफलता पूर्वक लागू हो चुकी है। अब पावर सैक्टर में इसे लागू किए जाने की पूरी तैयारी हो चुकी है। इससे बिजली चोरी पर भी लगाम लगने की संभावना है।

Advertisement
Advertisement