Connect with us

राज्य

पहले दिन सड़कें सुनसान, सब्जियों और राशन की दुकानों पर जुटी भीड़

Published

on

Advertisement

पहले दिन सड़कें सुनसान, सब्जियों और राशन की दुकानों पर जुटी भीड़

हरियाणा में साप्ताहिक लॉकडाउन शुरू हो चुका है। 9 मई तक पूर्ण रूप से लॉकडाउन रहेगा। पहले दिन लॉकडाउन का ज्यादातर जगहों पर असर दिखा। सड़कों पर सन्‍नाटा पसरा है। दुकानें बंद हैं। हर चौक चौराहे पर पुलिस के नाके हैं। जरूरतमंद लोगों को ही सड़कों पर निकलने दिया जा रहा है। लोगों से पूछताछ करने और पास दिखाए जाने के बाद ही आगे जाने की अनुमति दी जा रही है। कुछ जगहों पर लॉकडाउन में ढिलाई भी नजर आई। पुलिस सुस्त नजर आई।

नहीं चलाईं गईं बसें

Advertisement

ज्यादातर जगहों पर लॉकडाउन का असर दिखा। बाहर निकलने वाले पुलिस के सामने बहाने बनाते दिखे।

लॉकडाउन के पहले दिन रोडवेज की ओर से बसों का संचालन नहीं किया गया है। रविवार शाम के समय तो यह उम्मीद जताई जा रही थी कि बसों का संचालन किया जाएगा। परंतु इसका संचालन नहीं किया गया। बस सेवा पूरी तरह से बंद रही।

Advertisement

कैथल में सब्जियों और राशन की दुकानों पर जुटी भीड़

Advertisement

कैथल में लॉकडाउन के पहले दिन सब्जी खरीदने उमड़ी भीड़

कैथल में सभी गतिविधियों पर रोक लगाई गई है। केवल मेडिकल इमरजेंसी सेवाओं को छूट दी गई है। इससे पहले रविवार को डीसी सुजान सिंह के आदेशों पर जनता कर्फ्यू लगाया गया था। लॉकडाउन के पहले दिन भी पुलिस की ओर से सख्ती की गई है। हालांकि इस दौरान सब्जियों और राशन की दुकान पर सामान लेने के लिए लोगों की भीड़ जुटी रही। पुलिस ने घरों से निकलने वाले लोगों से पूछताछ की। पिहोवा चौक, कमेटी चौक, पुराना बस स्टैंड और छात्रावास रोड पर बैरिकेडिंग की गई है। घरों से जो भी लोग बाहर निकले, उन्होंने पुलिस के सामने मेडिकल इमरजेंसी का बहाना बनाया।


धर्मनगरी में लॉकडाउन, कई जगह घूमते रहे लोग

 

कुरुक्षेत्र में लॉकडाउन के दौरान सड़क पर पसरा सन्नाटा।

कोरोना की दूसरी लहर में सोमवार को हरियाणा की धर्मनगरी में में समलॉकडाउन लग गया। बाजार पूरी तरह से बंद रहे। मेडिकल, करियाना, दूध डेयरी की दुकानें ही खुली रही। इन सबके बीच लोगों सड़कों पर वाहनों की कतार लगी रही। सड़कों पर वाहन सामान्य दिनों की तरह चलते रहे। कुछ लोग दुकानें खोलने को लेकर असमंजस में रहे। इस्माइलाबाद में खाद की दुकानें खुली रही और मंडी में गेहूं की खरीद भी की गई। चौक-चौराहों पर पुलिसकर्मी भी तैनात थे फिर भी बेवजह घूमने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की। उधर ब्रह्मसरोवर सहित बाकी स्थलों पर भी सन्नाटा पसरा रहा।

अंबाला में दुकानें बंद, लोगों पर घूमते दिखे लोग, पुलिस सुस्त

 

अंबाला में लॉकडाउन के पहले दिन सड़कों पर जुटी भीड़।

लॉकडाउन -2 के पहले दिन अंबाला में दुकानें तो बंद रहीं, जबकि कुछ बाजारों में आवाजाही रही। आवश्यक सेवाओं की दुकानें तो खुलीं, जबकि लोग भी सुबह के समय बाजार में आए। पुलिस शुरुआती दौर में सुस्त दिखाई दी है। आवश्यक सेवाओं की दुकानों को खोलने में छूट दी है, जबकि इन दुकानों पर लोगों की भीड़ रही। दूसरी ओर पुलिस भी अपनी तैयारी में है और चौक चौराहों पर नाके लगाकर लोगों की आवाजाही को रोकेगी। सोमवार को सुबह के समय बाजार तो बंद ही रहे, जबकि किराना शॉप खुलीं। सुबह के समय आलम यह रहा कि लोग कारों और दोपहिया वाहनों पर बाजारों में तो आए, लेकिन पुलिस ने इनको रोका नहीं। सुबह के समय पुलिस लॉकडाउन को लेकर नरम रही।

 

करनाल में पुलिस मुस्तैद, आवाजाही पर रही नरमी

 

करनाल में लॉकडाउन के दौरान सड़कों पर निकले लोग।

करनाल में भी सोमवार से साप्ताहिक लॉकडाउन आरंभ हो गया। सुबह से ही पुलिस नियमों की पालना कराने के लिए तमाम चौक चौराहों सहित सभी प्रमुख स्थलों पर मुस्तैद नजर आई। हालांकि, इस दौरान आवाजाही को लेकर फिलहाल ज्यादा सख्ती दिखाई नहीं दी जबकि बाजारों में केमिस्ट, डेयरी और फल-सब्जी की बिक्री को छोड़कर तमाम बाजारों में दुकानें बंद रहीं। पुलिस प्रशासन की ओर से पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। सभी प्रमुख बाजारों, चौक-चौराहों, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और अन्य स्थलों पर अनावश्यक आवाजाही तथा भीड़ रोकने के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। वहीं, यात्रियों की कोरोना जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीमों को रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर तैनात किया गया है। अस्पतालों में भी उच्चाधिकारियों द्वारा लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है ताकि किसी मरीज या तिमारदार को कोई असुविधा न होने पाए। जिला उपायुक्त निशांत यादव और एसपी गंगाराम पूनिया अधीनस्थ अमले से पल-पल की रिपोर्ट ले रहे हैं।

यमुनानगर में बाजार बंद, सड़कों पर वाहनों की भीड़

यमुनानगर में भी लॉकडाउन लग गया। इस दौरान बाजार पूरी तरह से बंद रहे। दुकानों पर ताला लटका रहा। केवल मेडिकल, करियाना, दूध डेयरी की दुकानें ही खुली रही। परंतु सड़कों पर वाहनों की कतार लगी रही। रोजमर्रा की तरह सड़कों पर वाहनों की भीड़ रही। पहले दिन लोग दुकानें खोलने को लेकर असमंजस में रहे। क्योंकि ज्यादातर लोगों को नहीं पता था कि वह कौन सी दुकानें खोल सकते हैं और कौन सी नहीं।

लॉकडाउन भले लग गया हो लेकिन काफी लोग बेवजह ही सड़कों पर घूमते दिखे। एक-एक बाइक पर तीन सवारी देखी गई। जैसे लोगों को कोरोना महामारी का कोई खतरा न हो। वहीं अभी भी बहुत से लोग चेहरे पर मास्क नहीं लगा रहे हैं। जिससे संक्रमण का खतरा बरकरार है। कई लोग ऐसे भी थे जो एक-दो दिन से रिश्तेदारी में गए हुए थे लेकिन अल सुबह ही अपने घर पर आ गए। चौक-चौराहों पर पुलिसकर्मी भी तैनात थे फिर भी बेवजह घूमने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं की

 

SOURCE : BHASKAR

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *