Connect with us

पानीपत

Bharat Bandh in Jind: भारत बंद की वजह से सुबह 9 बजे ही थम गए रोडवेज बसों के पहिये

Published

on

Advertisement

Bharat Bandh in Jind: भारत बंद की वजह से सुबह 9 बजे ही थम गए रोडवेज बसों के पहिये

 

Advertisement

कृषि कानूनों के विरोध में भारत बंद का जींद में मिलाजुला असर देखने को मिला। शहर में जहां 11 बजे तक ही बाजार बंद रहे, जिसके  बाद बाजार खुल गए तो वहीं पैट्रोल पंप पर बंद का असर किसी भी तरह से दिखाई नहीं दिया। परिवहन गतिविधियां सुबह ही प्रभावित हो गई थी। सुबह 10 बजे के बाद नेशनल हाईवे और स्टेट हाईवे को जाम कर दिया गया। एंबुलेंस को छोड़ बाकी दूसरे किसी भी वाहन को रास्ता नहीं दिया जा रहा।

किसान संगठनों के आह्वान पर मंगलवार को सुबह 10 बजे ही सभी हाइवे व मुख्य मार्गों को सील करना शुरू कर दिया गया। किसान आंदोलन के समर्थन में प्राइवेट बसें बंद रही तो रोडवेज बसें जाम लगने के कारण 9 बजे के बाद नहीं चल पाई। अनाज मंडी में भी हड़ताल का असर देखने को मिला। हालांकि जींद की सब्जी मंडी खुली रही लेकिन नरवाना में सब्जी मंडी बंद रही। किसानों के बंद को देखते हुए कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिलेभर में 23 ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं। जिला प्रशासन ने लोगों से अपील की है कि बंद के दौरान परेशानी से बचने के लिए ज्यादा जरूरी ना होने पर सफर करने से बचें। किसान संगठनों से भी शांति बनाए रखने का आह्वान किया गया है।

Advertisement

उचाना से बरवाला मार्ग पर बीच रास्ते खाट डाल बंद किया गया रस्ता।

नेशनल और स्टेट हाईवे जाम

Advertisement

जींद से होकर गुजरने वाले सभी नेशनल और स्टेट हाईवे जाम कर दिए गए हैं। जींद-रोहतक रोड पर अनूपगढ़ और लाखनमाजरा में धरना दिया जा रहा है तो वहीं जींद-हिसार रोड पर ईक्कस गांव में रास्ता सील किया गया है। जींद से कैथल और करनाल रोड पर कंडेला गांव में रास्ता जाम कर किसान सड़क पर ही बैठे हैं। जींद-गोहाना मार्ग पर सिंधवी खेड़ा गांव के पास रास्ता बंद किया गया है।

 

दो धड़ों में बंटा बाजार

सामान्य दिनों में बाजार और गोहाना रोड पर सुबह 9 बजे ही चहलकदमी बढ़ जाती है लेकिन मंगलवार को 10 बजे तक बाजार सूनसान रहा। उसके बाद दुकानें खुलने लगी। बाजार की एक एसोसिएशन ने 12 बजे तक बाजार को पूरी तरह से बंद रखने का आह्वान किया था लेकिन 10 बजे के बाद बाजार की ज्यादातर दुकानें खुल गई। व्यापार मंडल एसोसिएशन की दुकानें बंद रही लेकिन दूसरी एसोसिएशन की दुकानें खुली रही।

किसान नेता छज्जूराम कंडेला ने कहा कि किसान शांतिपूर्वक धरना दे रहे हैं। किसी भी तरह की हिंसा किसान नहीं करेंगे। एंबुलेंस को छोड़ बाकी किसी भी वाहन को जाने नहीं दिया जाएगा। छज्जूराम कंडेला ने लोगों से अपील की कि भारत बंद का समर्थन करते हुए यात्रा करने से बचें, ताकि उन्हें परेशानी नहीं हो।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *