Connect with us

City

पानीपत: माॅडल टाउन की महिला काे झांसे में लेकर उससे 32 लाख 58 हजार रुपए की ठगी कर ली।

Published

on

Advertisement

3 गिराेह के ठगाें ने माॅडल टाउन की महिला काे झांसे में लेकर उससे 32 लाख 58 हजार रुपए की ठगी कर ली। पेट्राेल पंप, गैस एजेंसी और जियाेमार्ट की फ्रेंचाइजी देने के बहाने ठगाें ने रुपए ऐंठे। जब फ्रेंचायजी नहीं मिली ताे जांच कराई तब कागजात फर्जी मिले। महिला ने 3 शिकायतें एसपी काे दी थी। जिसकी जांच डिटेक्टिव स्टाफ काे दी गई।

जांच के बाद सिटी थाना पुलिस ने केस दर्ज किया। माॅडल टाउन की मिथलेश कुमारी और उनके पति रमेश कुमार पाल निजी कंपनी में जाॅब करते हैं। मिथलेश ने पुलिस काे शिकायत दी कि 11 सितंबर 2020 काे इंटरनेट पर पेट्राेल पंप लेने का विज्ञापन देखा। लिंक पर क्लिक करके नाम, पता, ईमेल आईडी भरकर फार्म सबमिट कर दिया।

Advertisement

3 दिन बाद चिराग नाम के युवक का काॅल आया। बाेला कि भारत पेट्राेलियम काॅरपाेरेशन लिमिटेड कंपनी से बाेल रहा हूं। आपने पंप के लिए आवेदन किया था। वह बेटे संग्राम चाैहान के नाम पर पंप लेना चाहती थी। इसलिए चिराग के कहने पर बेटे के दस्तावेज वाॅट्सएप कर दिए। कंफर्मेशन लेटर मिलने पर मिथलेश ने 16 सितंबर काे रजिस्ट्रेशन फीस के 25500 रुपए दे दिए।

फिर एलओआई के 82 हजार, एनओसी के 237000 रुपए लिए। कई विभागाें की एनओसी मेल पर भेजी। फिर एग्रीमेंट फीस के 5 लाख रुपए ले लिए। सिक्याेरिटी के 5 लाख मांगे। चिराग ने सीनियर अधिकारी बता एक युवक से बात कराई। 4 अप्रैल काे डेढ़ लाख रुपए भेज दिए। ठगाें ने कुल 9 लाख 94500 रुपए की ठगी की।

Advertisement

जियाेमार्ट फ्रेंचाइजी देने के नाम पर 14.92 लाख रुपए ऐंठे

JioMart WhatsApp Number: அம்பானியின் அடுத்த அதிரடி; இரவோடு இரவாக JioMart சேவை ஆரம்பம்! - - Samayam Tamil

मिथलेश के अनुसार उनकी मेल पर जियाे मार्ट फ्रेंचाइजी लेने के संबंध में मैसेज आया। फार्म भरकर भेज दिया। मनजीत सिंह नाम के युवक के कहने पर उसने दस्तावेज भेज दिए। तब मनजीत ने कहा कि रजिस्ट्रेशन हाे गया। 21 सितंबर 2020 काे रजिस्ट्रेशन फीस के 32500 दे दिए। एग्रीमेंट के 85 हजार रुपए भी दिए। एनओसी चार्ज के 72600 रुपए, विजिटिंग चार्ज के 59300 रुपए करके कुल 14 लाख 92400 रुपए ठग ने ऐंठ लिए। 16 मई काे कंफर्मेशन भी जारी की। अब साैरभ सिंह नाम का युवक काॅल करके 1.10 लाख रुपए की डिमांड कर रहा है। महिला ने जांच कराई ताे सब फर्जी मिले।

Advertisement

गैस एजेंसी देने के नाम पर 7.71 लाख रुपए ठगे

सितंबर 2020 में मिथलेश ने भारत गैस एजेंसी लेने के संबंध में प्रकाशन देखा और फार्म भर दिया। संजीव नाम के युवक के कहने पर उसने दस्तावेज भेज दिए। संजीव ने बताया कि कंपनी ने रजिस्ट्रेशन कर दिया। एक यूजर आईडी व पासवर्ड दिया। 18 सितंबर 2020 काे आईडी पर स्वीकृति पत्र भेजा।

रजिस्ट्रेशन फीस, एनओसी के नाम पर रुपए ले लिए। एनओसी प्रमाण पत्र दिया, जिस पर भारत सरकार मंत्रालय व भारत पेट्रोलियम काॅपरेशन लिमिटेड की मोहर लगी थी। फिर संजीव ने लाइसेंस फीस के रुपए लिए। कुल मिलकर 7 लाख 71 हजार 800 रुपए ले लिए, लेकिन एंजेसी नहीं मिली।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *